लखीसराय। जिले के पीरी बाजार थानाक्षेत्र अंतर्गत पीरी बाजार-कजरा रोड में हीरा बाबा स्थान के नजदीक लूटकांड कांड का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। सीसीटीवी फुटेज एवं वैज्ञानिक अनुसंधान से पता चला कि फाइनेंस कंपनी के स्टॉफ ने खुद लूट की साजिश रची थी। लूटकांड के वादी रोहित कुमार ने ही लूट का झूठा नाटक रचा था। पुलिस ने वादी रोहित सहित उसके दो अन्य सहयोगियों को गिरफ्तार कर लिया है। साथ ही कथित लूट के 80 हजार रुपये नकद, पांच मोबाइल, एक ड्राइ¨वग लाइसेंस, घटना में प्रयुक्त लाल रंग की पल्सर बाइक को भी बरामद कर लिया।

सोमवार को एसपी कार्तिकेय के. शर्मा ने पत्रकारों को बताया कि बांका जिले के जगतपुर निवासी रोहित कुमार ने पीरी बाजार कांड संख्या 05/19 के तहत एक लाख 74 हजार नकद एवं उसके पर्स से 2,800 रुपये सहित मोबाइल लूटने की प्राथमिकी दर्ज कराई थी। एसपी ने कहा कि वादी रोहित ने खुद को भारत फाइनेंसियल इंफ्लूजन लिमिटेड कंपनी में मैनेजर के पद पर कार्यरत बताया था। इस लूटकांड का उद्भेदन करने के लिए लखीसराय थानाध्यक्ष नीरज कुमार, चानन थानाध्यक्ष अभिजीत कुमार, पीरी बाजार थानाध्यक्ष संतोष कुमार सिन्हा एवं माणिकपुर ओपी अध्यक्ष सुनील कुमार झा के नेतृत्व में एक टीम बनाई गई। दर्ज प्राथमिकी के अनुसार पुलिस की टीम ने हीरा बाबा स्थान के नजदीक घटना स्थल के करीब देवकी मंडल के घर के आगे लगे सीसीटीवी फुटेज की जब जांच की तो उसमें सिर्फ वादी रोहित की तस्वीर सामने आई। उसके मोबाइल एवं अन्य स्त्रोतों की गहन जांच में सामने आया कि रोहित जिस कंपनी में काम करता था उसे वहां से निकाल दिया गया था। इसके बाद रोहित ने अपने दो अन्य साथी बेगूसराय जिले के बलिया थाना क्षेत्र के पहाड़पुर निवासी हरेराम यादव के पुत्र रजनीश कुमार एवं लखमिनयां निवासी विलायती यादव के पुत्र तरुण कुमार यादव के साथ लूट का झूठा नाटक रचा। एसपी ने कहा कि बरामद 80 हजार रुपये के अलावा शेष राशि रोहित के बैंक खाता में जमा है। बैंक खाता को फ्रिज कर दिया गया है। पुलिस ने रोहित को पीरी बाजार एवं उसके दो अन्य सहयोगी को बेगूसराय से गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

Posted By: Jagran