लखीसराय। गत 30 अगस्त को सिविल सर्जन अशोक कुमार के द्वारा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र सूर्यगढ़ा का औचक निरीक्षण करने के दौरान बिना विभागीय जानकारी के तीन चिकित्सक गायब मिले थे। विभाग ने तीनों से स्पष्टीकरण की मांग की है। ओपीडी दंत चिकित्सक निरंजन कुमार, डॉ. वाईके दिवाकर, डॉ. सन्नी कुमार से अनुपस्थित पाए जाने को लेकर स्पष्टीकरण की मांग की गई है। जबकि डॉ. वाइके दिवाकर के द्वारा पूर्व से ही हाजिरी बनाने की बात सामने आई है। स्थानीय लोगों का आरोप है कि चिकित्सा पदाधिकारी धीरेन्द्र कुमार की लापरवाही के कारण ही चिकित्सक सहित अन्य कर्मियों के द्वारा पूर्व में ही उपस्थिति पंजी पर हाजिरी बना लिया जाता रहा है। बावजूद इसके चिकित्सा पदाधिकारी के द्वारा कार्रवाई नहीं की जाती है। इससे साफ जाहिर होता है कि प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी की निष्क्रियता के कारण पीएचसी में स्वास्थ्य कर्मियों की मनमानी चलती है।

Posted By: Jagran