लखीसराय। जिला मुख्यालय ये सटे किशनपुर बालू घाट पर छापामारी को गए प्रशासनिक टीम पर बालू माफिया द्वारा किए गए हमले की घटना को लेकर सूर्यगढ़ा के विधायक प्रहलाद यादव ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। एक बयान जारी कर श्री यादव ने कहा है कि बालू माफिया को संरक्षण देने का खामियाजा पुलिस-प्रशासन भुगत रहा है। उन्होंने कहा कि जिले में पुलिस और प्रशासन के छोटे ओहदे से लेकर बड़े ओहदे तक के लोग भ्रष्टाचार में डूबे हैं। सरकार की लापरवाही और जिला प्रशासन की निष्क्रियता से बालू का काला कारोबार पुलिस के संरक्षण में माफिया कर रहा है। चानन, रामगढ़ चौक, लखीसराय, कबैया, सूर्यगढ़ा थाना की पुलिस वरीय अधिकारी के संरक्षण में बालू का अवैध उठाव और उसका बिक्री करा रही है। चानन की सड़कों पर अवैध बालू का डं¨पग जोन बना हुआ है। लखीसराय-जमुई सड़क मार्ग के किनारे कई जगहों पर बालू का भंडारण है। माफिया पूरी रात बालू का खनन कर उसे विभिन्न मार्ग से बिक्री के लिए ले जाता है लेकिन कार्रवाई के नाम पर पुलिस और प्रशासन की टीम खानापूरी करती है। लखीसराय की ऐसी स्थिति पहले कभी ऐसी नहीं थी जो अब है। बालू के नाम पर कानून व्यवस्था ताक पर है और माफिया से लेकर वर्दी वाले तक इस धंधे में मालामाल हो रहे हैं। विभागीय मंत्री, आइजी, डीआइजी तक शिकायत करने के बाद भी यहां बालू को अवैध उठाव बंद नहीं हुआ है ऐसे में लोग कहां और किससे शिकायत करे। जब प्रशासन के लोगों पर पथराव हो जाता है तो आम लोगों की सुरक्षा की क्या गारंटी है। ऐसे में बड़ी घटना भी हो जाए तो इसकी जिम्मेदारी कौन लेगा।

Posted By: Jagran