मुंह में पिस्टल ठूंसकर जान मारने की दी धमकी, दो घंटे तक बनाए रखा बंधक

निजी नर्सिंग होम में संचालित दवा दुकान की जांच करने गए थे ड्रग इंस्पेक्टर संवाद सहयोगी, लखीसराय : लखीसराय थाना क्षेत्र के पुरानी बाजार महिला विद्या मंदिर रोड स्थित डॉ. एके सिंह के निजी क्लीनिक में संचालित दवा दुकान का निरीक्षण करने गए औषधि निरीक्षक (ड्रग इंस्पेक्टर) रवींद्र मोहन के साथ गुरुवार को डॉ. एके सिंह एवं उनके कंपाउंडर ने जमकर मारपीट कर गंभीर रूप से जख्मी कर दिया। औषधि निरीक्षक के मुंह में पिस्टल ठूंसकर जान से मारने की धमकी दी। साथ ही मोबाइल छीनकर औषधि निरीक्षक को एक कमरे में दो घंटे तक बंधक बनाए रखा। मामला दर्ज नहीं कराने की शर्त पर डॉ. एके सिंह ने औषधि निरीक्षक को छोड़ा। सूचना पर शहर के ढेर दवा दुकानदारों ने पहुंचकर औषधि निरीक्षक श्री मोहन को सदर अस्पताल ले जाकर इलाज कराया। इसके बाद लखीसराय थाना पहुंचकर घटना से संबंधित आवेदन दिया है। आवेदन में कहा गया है कि गुरुवार को वे दिन के करीब 12:30 बजे डॉ. एके सिंह के निजी क्लीनिक में संचालित दवा दुकान का निरीक्षण करने पहुंचे। दवा दुकान पर मौजूद व्यक्ति से दवा दुकान का लाइसेंस एवं अन्य कागजात की मांग करने पर लाइसेंस नहीं दिखाकर डॉ. श्री सिंह से मिलने को कहा गया। डॉक्टर से लाइसेंस मांगकर लाने के लिए कहने पर कुछ देर में डॉक्टर स्वयं वहां पहुंचकर उन्हें अंदर बुला लिया और उनके साथ गाली-गलौज करते हुए कंपाउंडर के साथ मिलकर मारपीट कर उन्हें जख्मी कर दिया। इसके बाद उन्हें घसीटते हुए एक कमरे में ले जाकर उनके मुंह में पिस्टल ठूंसकर जान मारने की धमकी दी। इसके बाद उनका मोबाइल छीनकर दो घंटे तक बंधक बनाए रखा। औषधि निरीक्षक द्वारा केस नहीं करने की बात कहने के बाद उन्हें छोड़ा गया। इधर लखीसराय ड्रगिस्ट एंड केमिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष सुनील कुमार ने इस घटना की तीव्र निदा करते हुए दोषी के विरुद्ध कार्रवाई करने की मांग की है। इधर प्रभारी थानाध्यक्ष प्रजेश कुमार दुबे ने बताया कि प्राथमिकी दर्ज कर दोषी के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। उधर डॉ. एके सिंह से संपर्क करने पर उनका मोबाइल स्वीच ऑफ मिला।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran