किशनगंज, जेएनएन। अपराधियों का खौफ लगातार बढ़ता जा रहा है। रोड हो या ट्रेन कहीं भी बेहिचक होकर अपराधी घटना को अंजाम दे रहे हैं। ऐसा ही एक मामला चलती ट्रेन में किशनगंज के पास हुआ है। चीन जा रही विदेशी महिला को चलती ट्रेन में अपराधियों ने निशाना बनाया। घटना को लेकर पीडि़त विदेशी महिला डिप्रेशन में चली गई, लेकिन टीटीई ने मदद के बजाय ट्रेन से स्‍टेशन पर उतार दिया। तब अानन-फानन में आरपीएफ के जवानों ने उनकी मदद की और विदेशी महिला की जान बचाई।

दरअसल पश्चिमी देश लातविया (रिगा) निवासी इजीना उदालेजेवा वर्तमान में चीन के छेंगदू में कार्यरत हैं और गत दिनों व्यापारिक उद्देश्य से दिल्ली आई थीं। गुरुवार को वह 14056 अप ब्रह्मपुत्र एक्सप्रेस से गुवाहाटी लौट रही थीं। वहां से उन्हें मणिपुर के रास्ते चीन वापस लौट जाना था, लेकिन सफर के दौरान अज्ञात बदमाशों ने उनकी मोबाइल, रुपये सहित अन्य जरूरी सामान चोरी कर लिया।

ब्रह्मपुत्र एक्सप्रेस के किशनगंज पहुंचते ही उन्हें घटना का आभास हुआ और वह डिप्रेशन का शिकार होकर बीमार हो गईं। उनकी स्थिति को देख ट्रेन के टीटीई ने उन्हें स्टेशन पर उतर जाने की सलाह दी। प्लेटफॉर्म नंबर एक पर पीड़ित इजीना को बदहवास और बेसुध पड़ा देख आरपीएफ के जवानों ने मदद को हाथ आगे बढ़ाया और उन्हें इलाज के लिए रेल अस्पताल में भर्ती कराया।

इजीना के स्वस्थ्य होने के बाद आरपीएफ इंस्पेक्टर गंभीर पेगू सहित जवानों ने उनके लिए टिकट की व्यवस्था की और उन्हें 12424 अप राजधानी एक्सप्रेस से गुवाहाटी के लिए रवाना कर दिया। इतना ही नहीं, आरपीएफ जवानों ने उनके आगे की यात्रा के लिए भी रुपये का इंतजाम कर दिया। आरपीएफ की आत्मीयता भरे प्रयास से अभिभूत हुईं इजीना ने मुक्त कंठ से आरपीएफ जवानों की भूरी-भूरी प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि वह अपने भारत यात्रा को कभी भूल नहीं सकेंगी। उन्होंने आरपीएफ जवानों की तारीफ करते हुए कहा कि ये लोग मन के साथ साथ दिल के भी सच्चे हैं। आज उनके प्रयास से ही वह अपने कार्य क्षेत्र वापस लौट रही हैं।

Posted By: Rajesh Thakur

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप