किशनगंज। एक तरफ जहां दुर्गा पूजा की तैयारियों को लेकर पूजा कमेटी पंडालों के तैयारियों में दिन रात जुटे है। दूसरी तरफ नगर परिषद शहर में सफाई को लेकर सौतेला व्यवहार कर रही है। बाजार में हर तरफ साफ-सफाई की जा रही है। कई इलाके में कचड़े को साफ कर सड़क के किनारे अच्छी तरह से ब्लीचिग की गयी है। वहीं शहर के कई पूजा स्थलों के सामने से गुजरने वाली सड़कों पर आधा अधूरा कचड़ा उठाकर खानापूर्ति कर ब्लीचिग पाउडर डालकर सौतेलापन का एहसास करा रही है।

कई जगहों पर छोड़े गए आधे अधूरे कचड़े में आवारा पशु विचरण कर रहे है। तो कहीं कचड़ों को उठा कर आसपास नाम का ब्लीचिग छिड़काव कर छोड़ दिया गया है। जिससे स्वत: अंदाजा लगाया जा सकता है कि पूजा में शाम को घूमने निकलने वाले लोगों को बदबू व पसरे कीचड़ के कारण परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। बताया जाता है कि जिस क्षेत्र में जिला के अधिकारी एवं बड़े लोग रहते हैं उस क्षेत्र में साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाता है वहीं अन्य क्षेत्र में सिर्फ दिखावे के लिए सफाई कार्य किया जाता है। धरमगंज निवासी रितेश महतो ने बताया कि नगर परिषद मोहल्लों से गुजरने वाली मुख्य सड़क को साफ तो किया जाता है लेकिन कई गली-मोहल्ले में साफ-सफाई कार्य नियमित रूप से नहीं किया जाता है। सफाई बाद भी कचड़ा जमा किए जाने वाली जगहों पर मक्खी लगते रहता है। वहीं दूसरी तरफ नगर परिषद कर्मी कभी कभार ही झाडू मारते है जो जमा किए कचड़े को भी जहां तहां जमा कर आगे निकल जाते है। कई मोहल्लों के मोड़ पर कई-कई दिनों तक कचड़ा जमा रहता है। कई वीआईपी जगहों पर तो नगर परिषद द्वारा अच्छी तरह से कचड़े का उठा कर पूरी सड़क और नालों के समीप ब्लीचिग की गयी है। लेकिन छोटे- छोटे मोहल्लों के मुख्य सड़कों आधे अधूरा कचड़े का उठाव कर कहीं नाम मात्र का ब्लीचिग छिड़काव किया जा रहा है।

Edited By: Jagran