फोटो 12 केएसएन 51

संवाद सूत्र, टेढ़ागाछ (किशनगंज) : मंगलवार को प्रखंड क्षेत्र की दो प्रमुख नदी कनकई और रेतुआ नदियों के जलस्तर में वृद्धि से नदी किनारे बसने वाले ग्रामीणों में खलबली मच गई थी। खबर मिलते ही प्रखंड के अधिकारियों द्वारा इन दोनों नदियों का जायजा लिया गया लेकिन शाम तक धीरे-धीरे नदियों के जलस्तर में गिरावट देखी गई। नेपाल के तराई वाले क्षेत्र में अत्यधिक बारिश के कारण इन नदियों का जलस्तर में वृद्धि हुई थी। बुधवार को मटियारी पंचायत का मालीटोला गांव अब पूरी तरह कटाव की चपेट में आ गया है। ग्रामीण मुतजीर आलम, मतीन आलम, इफ्तेखार अल फारसी, हसनैन आलम, आरिफ आलम, मास्टर अब्बास, मुबस्सीर आलम, रागीब आलम आदि ने बताया कि लगभग एक हजार की आबादी वाले गांव पर कटाव का खतरा मंडरा रहा है। लोग अपने घरों के सामान अन्यत्र ले जा रहे हैं। नदी का कटाव देखकर ग्रामीण सशंकित है। अगर जल्द ही प्रशासन की ओर से कटावरोधी कार्य नहीं किया गया तो पूरा गांव नदी में विलीन हो जाएगा। मालूम हो कि रेतुआ और कनकई नदी का जलस्तर घटने से कटाव ज्यादा होने लगता है।

Posted By: Jagran