जागरण संवाददाता, खगड़िया: सदर अस्पताल में कोरोना की तीसरी लहर व नए वैरिएंट ओमिक्रोन से निपटने के दावे किए जाते रहे हैं। लेकिन दुर्भाग्य है की छह महीने बीत जाने के बाद भी आक्सीजन प्लांट का कार्य पूरा नहीं हो सका है। आक्सीजन प्लांट में लगे टावर वन और टावर टू को जोड़ने वाली सोकेट पाइप के कई जगहों से गैस का रिसाव हो रहा है।

वहीं एयर ड्रायर से टैंक में जाने वाली पाइप के सोकेट के पास लीकेज हो रहा है। जो खतरे की घंटी है। उच्च दबाव के साथ बनने वाले आक्सीजन प्लांट में इस प्रकार की गड़बड़ी जानलेवा साबित हो सकती है। जो बड़ी दुर्घटना को निमंत्रण दे रहा है। बावजूद अस्पताल प्रशासन का उदासीन रवैया समझ से परे है। सिविल सर्जन डा. अमरनाथ झा का कहना है कि कंपनी को इसके बारे में शिकायत की गई है। एजेंसी का कहना है कि वह तकनीशियन को एक-दो दिन में भेज रहे हैं। जबकि वास्तविकता यह है कि बीते चार दिनों से आक्सीजन प्लांट में कई जगह गैस लीकेज हो रहा है। जिसको लेकर स्वास्थ्य विभाग के कई आला अधिकारी संबंधित एजेंसी के संचालक को इसकी सूचना मौखिक रूप से दे रहे हैं। लेकिन एजेंसी इन अधिकारियों की एक सुनने को तैयार नहीं है। ऐसी स्थिति में अगर कोई अप्रिय घटना हो जाती है तो इसके जिम्मेवार कौन होंगे। सिविल सर्जन के द्वारा बार-बार आक्सीजन प्लांट को पूर्ण रूप से संचालित करने के लिए कंपनी को हिदायत देने की बात कही जाती रही है। आक्सीजन प्लांट को पूर्ण रूप से स्थापित करना सबसे बड़ी चुनौती बीते दिनों आक्सीजन प्लांट का पूर्वाभ्यास कर शुद्ध आक्सीजन 63 बेडो तक पहुंचाना शुरू कर दिया गया था। जल्द ही शेष बचे मैनीफोल्ड रूम का कार्य पूरा करने की बात कही जा रही थी। लेकिन आज भी आक्सीजन प्लांट का कार्य पूर्ण नहीं हो सका है। जो सबसे बड़ी चुनौती है। निर्माण एजेंसी बार- बार बीच में ही काम छोड़ कर भाग जाती है। मैनीफोल्ड रूम में लगने वाले उपकरण के अभाव में भी कार्य बाधित रहता है। मालूम हो कि बीते छह महीने से स्वास्थ्य विभाग की एजेंसी बीएमआइसीएल द्वारा आक्सीजन प्लांट के निर्माण का कार्य किए जा रहा है। लेकिन छह महीने बाद भी अभी तक पूर्ण रूप से आक्सीजन प्लांट व्यवस्थित नहीं हो सका है। फिलहाल 63 बेड तक आक्सीजन प्लांट से आक्सीजन का पाइप लाइन पहुंचाया जा चुका है। बीते 23 दिसंबर को आक्सीजन प्लांट का पूर्वाभ्यास किया गया था। जिसमें पूर्वाभ्यास के दौरान आक्सीजन के सप्लाई पाइप में लीकेज होने के कारण दो घंटे के मशक्कत के बाद ठीक हो पाया था। जिसके बाद सप्लाई हो सका। दोबारा प्लांट में कई जगह लीकेज हो रहा है। जिसके कारण शुद्ध आक्सीजन निर्बाध रूप से इन 63 बेडो तक नहीं पहुंचाया जा रहा है। जहां आक्सीजन प्योरिटी 92 होनी चाहिए वहां 64 से 65 के बीच हो रहा है। वहीं अभी भी कई कार्य आक्सीजन प्लांट में किए जाने बाकी है। जिसको लेकर अस्पताल प्रशासन द्वारा कई बार संबंधित एजेंसी बीएमआइसीएल को हिदायत दी गई है।

Edited By: Jagran