खगड़िया। परबत्ता प्रखंड के बाढ़ प्रभावित पंचायतों से पानी निकल चुका है। लेकिन अब बीमारी ने सर उठा लिया। दूसरी ओर यहां के अधिकांश उप स्वास्थ्य केंद्र बंद रहते हैं। जिससे मरीजों को परेशानी उठानी पड़ रही है।

प्रखंड क्षेत्र का अधिकांश हिस्सा बाढ़ प्रभावित रहा है। बीते सितंबर के अंतिम सप्ताह में बाढ़ आई थी। बाढ़ का पानी चले जाने के बाद अब बीमारी सर उठा रही है। डायरिया, बुखार के मरीज प्रतिदिन सीएचसी समेत अन्य स्वास्थ्य केंद्रों पर आ रहे हैं। परंतु, स्वास्थ्य सेवा बदहाल है। अभी भी कई जगहों पर स्वास्थ्य उपकेंद्र बंद रहता है। लोगों को दवा नहीं मिलती है।

इसका उदाहरण यहां का स्वास्थ्य उपकेंद्र सलारपुर है। यह अक्सर बंद रहता है। लोगों को दवा नहीं मिल पा रही है। जिस कारण लोगों की परेशानी बढ़ गई है। घनी आबादी के बीच यह स्वास्थ्य उपकेंद्र अवस्थित है। स्थानीय लोगों ने इस ओर अधिकारियों का ध्यान आकृष्ट कराया है। जयप्रकाश यादव, इंदु प्रसाद सिंह, मुस्ताक आलम आदि ने कहा कि बाढ़ का पानी जाने बाद क्षेत्र में बीमारियां सर उठा रही है। मच्छर का प्रकोप भी बढ़ा हुआ है। लोग परेशान हैं। लेकिन ब्लीचिग पाउडर का छिड़काव नहीं किया जा रहा है। सीएचसी प्रभारी डॉ. पटवर्धन झा ने कहा कि अगर कोई भी उप स्वास्थ्य केंद्र बंद पाया गया, तो संबंधित कर्मियों पर कार्रवाई होगी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप