खगडि़या। कोसी के जलस्तर में बुधवार को मामूली दस सेमी की वृद्धि हुई है। परंतु, जिले में अभी भी नदी डेंजर लेवल से ऊपर है। जिले के बलतारा में कोसी डेंजर लेवल से अभी भी 25 सेमी ऊपर बह रही है। हालांकि, संकेत घटने के हैं। दूसरे ओर कोसी ने चोढ़ली जमींदारी बांध के बारुण स्थल के समीप कटाव आरंभ कर दिया है। इससे इतमादी पंचायत के लोग दहशत में हैं। मालूम हो कि इतमादी पंचायत की इतमादी, स्वर्णपुरी, बारुण, सरस्वतीनगर जमींदारी बांध के बाहर पड़ता है। जबकि कुंजहरा जमींदारी बांध के अंदर है। बीते महीनों कुंजहरा कोसी के गर्भ में समा चुकी है। यहां के विद्यालय भी कोसी में समा गए। 40 परिवारों को विस्थापित होना पड़ा। इधर, बारुण के पास जमींदारी बांध से सटकर कोसी नदी बह रही है। इससे इतमादी पंचायत की चार गांवों के ऊपर

खतरे के बादल मंडराने लगे हैं। बीते तीन दिनों से कटाव जारी है।

हालांकि, बांध को बचाने के लिए विभाग ने कमर कस ली है। मंगलवार से ही फ्लड फाइ¨टग कार्य शुरू हो गया है।

दूसरी ओर

इतमादी सरपंच राजीव कुमार ने बताया कि कटाव तेज है। जिस रफ्तार से कोसी कटाव कर रही है, ऐसे में कुछ भी कहना मुश्किल है। 'तेज हवा के कारण वेबवास से बांध की मिट्टी का क्षरण हो रहा है। लगभग 25 मीटर में कटाव हो रहा है। जेई कैंप कर रहे हैं। फ्लड फाइ¨टग कार्य आरंभ है। किसी भी सूरत में जमींदारी बांध को कटने नहीं दिया जाएगा।

'

= सुनील कुमार वैश्य, कार्यपालक अभियंता, बाढ़ नियंत्रण संख्या-दो, खगड़िया।

=== ===

Posted By: Jagran