खगड़िया। जलस्तर में गिरावट आते ही कोसी ने उग्र रूप धारण कर कटाव शुरू कर दिया है। इस कारण बारुण गांव के समीप बने जमींदारी बांध पर खतरे के बादल मंडराने लगे हैं। बीते दो दिनों से कटाव जारी है। कटाव अब जमींदारी बांध को घेरे में ले लिया है। हालांकि, बांध को बचाने एवं कोसी के भीषण कटाव पर अंकुश पाने के लिए विभाग ने कमर कस ली है। फ्लड फाइ¨टग कार्य शुरू हो गया है।

इतमादी सरपंच राजीव कुमार ने बताया कि कटाव तेज है। जिस रफ्तार से कोसी कटाव कर रही है, ऐसे में कुछ भी कहना मुश्किल है। मालूम हो कि इस वर्ष कोसी के कटाव से इतमादी पंचायत की कुंजहरा गांव के 40 परिवार को विस्थापित होना पड़ा।

बाढ़ नियंत्रण प्रमंडल- दो के कार्यपालक अभियंता सुनील कुमार वैश्य ने बताया कि बांध और कटाव स्थल की दूरी दस मीटर के आसपास है। लगभग 25 मीटर में कटाव हो रहा है। विभागीय अधिकारी कैंप कर कटाव पर अंकुश पाने का प्रयास कर रहे हैं। फ्लड फाइ¨टग कार्य शुरू हो गया है। 24 घंटे वहां कैंप किया जा रहा है। किसी भी सूरत में जमींदारी बांध को कटने नहीं दिया जाएगा।

Posted By: Jagran