खगड़िया। कृषि विज्ञान केंद्र के प्रांगण में कौशल विकास प्रशिक्षण कार्यक्रम के तहत जिले के सातों प्रखंड से 20 प्रशिक्षुओं को मशरूम उत्पादन का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। केंद्र के वरीय वैज्ञानिक एवं प्रधान डॉ. ब्रजेंदु कुमार ने सभी प्रशिक्षुओं को मशरूम बैग तैयार करते समय बरती जाने वाली सावधानियों की सैद्धांतिक जानकारी दी। वहीं, केंद्र के गृह वैज्ञानिक डॉ. अनिता कुमारी एवं डॉ. सत्येंद्र कुमार के द्वारा प्रशिक्षणार्थियों को ऑयस्टर मशरूम बैग तैयार करने का व्यवहारिक प्रशिक्षण दिया गया। मशरूम की खेती अन्य फसलों की उपज के अवशेष पर की जाती है। जिससे उनका पुन: चक्रण होकर उच्च कोटि के पोषक तत्वों प्रोटीन, विटामिन एवं खनिज लवण में तब्दील हो जाता है। मशरूम की कई प्रजातियां बटन, ऑयस्टर, दूधिया मशरूम की जानकारी दी गई। डॉ.अनिता कुमारी ने बताया कि मशरूम औषधीय गुणों से भरपूर है। मशरूम जोड़ों के दर्द, पाचन ठीक करने, मानसिक तनाव को दूर करने और रक्त संचार के वृद्धि में लाभदायक है। इसमें वसा, स्टार्च और कोलेस्ट्राल की मात्रा कम होती है। इसलिए मशरूम ब्लड प्रेशर, मधुमेह एवं जोड़ों के दर्द वाले मरीज के लिए फायदेमंद होता है। मशरूम की खेती के बाद बचा हुआ कम्पोस्ट और भूसा फिर से कार्बनिक खाद के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। यह जानवरों को खिलाने के काम भी आ सकता है। उसे पूरी तरह सड़ाने के बाद अपने खेत की मिट्टी में मिलाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि मशरूम की खेती के लिए अन्य फसलों की तरह उपजाऊ जमीन की आवश्यकता नहीं होती। बेकार पड़ी बंजर जमीन पर मशरूम फार्म बना सकते हैं। इस प्रकार से यह खेती छोटे किसानों के लिए काफी लाभदायक है। किसान, मशरूम की खेती को अपनी सामान्य खेती के साथ-साथ दो फसलों के बीच मिलने वाले समय के दौरान, अतिरिक्त आय के साधन के रूप में कर सकते हैं। गांव के बेरोजगार युवकों और मजदूर भाइयों के लिए यह खेती स्वरोजगार का अवसर प्रदान करती है। इस 25 दिवसीय प्रशिक्षण को प्राप्त कर रहे सभी प्रशिक्षणार्थी अपने-अपने गांव में मशरूम उत्पादन का कार्य छोटे स्तर पर शुरुआत किए है। प्रशिक्षण में वैज्ञानिक पद्धति द्वारा मशरूम उत्पादन तकनीक का ज्ञान अर्जित करने के उपरांत प्रशिक्षुओं ने वृहत रूप से मशरूम उत्पादन की कार्य योजना बनाई है। इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में केंद्र के उद्यान वैज्ञानिक डॉ. रणजीत प्रताप पंडित, अविनाश कुमार यादव, सविता कुमारी, शबनम कुमारी, काजल कुमारी, अनिता कुमारी इत्यादि उपस्थित थे।

Posted By: Jagran