संसू बरारी (कटिहार) : मानव कल्याण के अरदास के साथ ही सिख पंथ के नौवें गुरु तेग बहादुर का तीन दिवसीय 346वां शहीदी गुरुपर्व संपन्न हो गया। इसको लेकर स्थानीय गुरुद्वारा सरदार लक्ष्मीपुर में आयोजित कार्यक्रम से आसपास का इलाका गुरुनाम से गुंजायमान रहा। कार्यक्रम की शुरूआत गुरुग्रंथ साहिब के अखंड पाठ से शुरू हुआ था, जो तीन दिनों तक चलता रहा। इस दौरान यहां सजी दिवान में हाडी जत्था मिल्का सिंह (पंजाब), कथावाचक चरणजीत सिंह अमृतसर, रागी जत्था इन्द्रजीत सिंह, पटियाला (पंजाब), कथावाचक गगनदीप सिंह पटना साहिब, रागी जत्था अरविद सिंह पटना साहिब, रागी जत्था जीवन सिंह (मुख्यग्रंथी), मलकीत सिंह आदि ने हिदु धर्म की रक्षा को लेकर सिक्ख गुरूओं के शहादत पर अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि तेग बहादुर के चलत भयो जगत में शोक, है है है सब जग भयो जय जय शुरलोक..के शबद़ कीर्तन से संगतों को भावविभोर कर दिया। अंतिम व मुख्य कार्यक्रम में लक्ष्मीपुर सहित गुरूबाजार, भंडारतल, कांतनगर, हुसैना, बड़ी भैसदीरा आदि गांवो से संगतो ने शिरकत कर गुरूग्रंथ साहिब के समक्ष आस्था के शीश नवाए साथ ही गुरू प्रसाद के रूप मे लंगर को ग्रहण किया। गुरुपर्व कमेटी के प्रधान सरदार प्रदीप सिंह व निगरानी कमेटी के प्रधान सरदार शनिदर सिंह ने बताया कि बच्चो के बीच क्वीज प्रतियोगिता के पश्चात उनके बीच पारितोषिक का वितरण किया जाएगा। कार्यक्रम के सफल आयोजन में स्थानीय महिला पुरूष संगतो ने अहम योगदान दिया।

-----------------

जागरण संवाददाता, कटिहार: शहर के गामीटोला स्थित महर्षि मेंही संतमत सत्संग मंदिर में महर्षि मेंही सेवा समिति का 13वां स्थापना दिवस धूमधाम के साथ मनाया गया। इस अवसर पर संतमत सत्संग आश्रम में भव्य कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कुप्पाघाट से आए महर्षि मेंही के परम शिष्य केदार बाबा ने संतमत के अनुयायियों के बीच प्रवचन किया। उन्होंने कहा कि अध्यात्मिक जागृति एवं संतमत का प्रचार सेवा समिति का मुख्य उद्देश्य है। उन्होंने कहा कि सत्संग से ही सद्गति मिलती है। उन्होंने कहा कि अच्छाई के रास्ते पर चलने की सीख सत्संग से मिलती है। इस मौके पर रवि डालमिया, संगीता कुमारी, ओमप्रकाश अग्रवाल, कमल रामुका, शिवप्रकाश साह सहित बड़ी संख्या में श्रद्धालु मौजूद थे।

Edited By: Jagran