कटिहार। जिले में दुर्गा पूजा शांतिपूर्ण माहौल में संपन्न हो गया। विजयादशमी से ही दुर्गा प्रतिमाओं के विसर्जन का सिलसिला शुरू हो गया। महानवमी एवं विजयादशमी के दिन दुर्गा मंदिरों व पूजा पंडालों में पूजा अर्चना के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी। लोगों ने नम आंखों से मां दुर्गा को विदाई दी। विसर्जन के मौके पर बंगाली समाज की महिलाओं द्वारा सिदूर की होली खेली गई। पूजा समितियों द्वारा इस बार बड़े पूजा पंडाल का निर्माण नहीं किया गया था। अधिकांश पूजा समितियों द्वारा विजयादश्मी को ही प्रतिमा का विसर्जन किया गया। कुछ पूजा समिति द्वारा रविवार को प्रतिमा विसर्जन किया जाएगा। महानवमी के दिन हवन व खोंइंछा भरने के लिए मंदिरों व पूजा पंडालों में हजारों की संख्या में महिला व पुरूष श्रद्धालु उमड़े। प्रशासनिक स्तर से विसर्जन 15 अक्टूबर को किए जाने की निर्धारित की गई थी। विजयादश्मी को देर शाम तक प्रतिमा का विसर्जन चिन्हित जलाशय व नदियों में किया गया। इस दौरान प्रशासनिक स्तर से सुरक्षा की पुख्ता व्यवस्था की गई थी। घरों में स्थापित कलश का भी विधि विधान के साथ विसर्जन किया गया। डिप्टी सीएम व सांसद ने विभिन्न मंदिरों व पंडालों में किया दर्शन डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद, सांसद दुलाल चंद्र गोस्वामी, पूर्व सांसद तारिक अनवर, निवर्तमान एमएलसी अशोक अग्रवाल ने विभिन्न मंदिरों व पूजा पंडालों का भ्रमण किया। डिप्टी सीएम, सांसद व निवर्तमान एमएलसी ने मंदिरों व पंडालों में दर्शन व पूजा अर्चना की। डिप्टी सीएम,सांसद व पूर्व सांसद ने शहर के सार्वजनिक दुर्गामदिर,सर्वमंगला मंगला मंदिर,मनोकामना मंदिर, सहित एलडब्लूसी, लीडर क्लब, एवं संग्राम चौक स्थित पूजा पंडाल पहुंचे। डंडखोरा,कदवा,बारसोई,आजमनगर,सालमारी,हसनगंज,कोढ़ा , कुर्सेला के दुर्गामंदिर में भी डिप्टी सीएम व सांसद ने पूजा अर्चना की।

सुरक्षा की पुख्ता व्यवस्था

महानवमी व विजयादशमी को लेकर प्रशासनि स्तर से सुरक्षा की पुख्ता व्यवस्था की गई थी। दुर्गामंदिरों, पूजा पंडालों सहित मुख्य बाजारों व संवदेनशील स्थानों पर दंडाधिकारी के नेतृत्व में सशस्त्र पुलिस बल की तैनाती की गई थी। प्रतिमा विसर्जन में जुलूस निकालने की अनुमति नहीं दी गई थी।

Edited By: Jagran