कटिहार। वैश्विक महामारी कोरोना काल में मरीजों को ऑक्सीजन की सबसे अधिक जरूरत हो रही है। ऑक्सीजन के अभाव में कोरोना की दूसरी लहर में कई लोगों की जान जा चुकी है। ऐसे में कोरोना संकट से जूझ रहे लोगों को ऑक्सीजन उपलब्ध कराने के लिए भारतीय रेलवे ने अहम निर्णय लिया है। अब रेलवे के सभी जोनों और मंडलों में ऑक्सीजन प्लांट लगाया जाएगा। इसके तहत कटिहार रेलमंडल के कटिहार रेल अस्पताल व एनजेपी में ऑक्सीजन जेनरेशन प्लांट स्थापित होगा। रेलवे बोर्ड ने इस संबंध में दिशा-निर्देश जारी कर दिया है।

एनएफ रेल के महाप्रबंधक अंशुल गुप्ता ने वर्चुअल माध्यम से गुरुवार को बताया कि अब रेलवे अपना ऑक्सीजन प्लांट लगाकर प्राणवायु देने का भी काम करेगा। इसके लिए देशभर के 17 रेलवे जोन में बने केंद्रीय अस्पतालों सहित रेलमंडल के अस्पातल को चिह्नित किया गया है। एनएफ रेल में फिलहाल छह पीएसएऑक्सीजन प्लांट लगाए जा रहे है। कटिहार रेल अस्पताल में 50 लाख की लागत से स्थापित किए जाने वाले पीएसए ऑक्सीजन प्लांट से एक मिनट में लगभग 500 लीटर ऑक्सीजन तैयार होगा। अस्पताल परिसर में स्थान चिन्हित कर प्लांट लगाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। शीघ्र ही ऑक्सीजन प्लांट तैयार हो जाएगा। ऑक्सीजन प्लांट से अस्पताल को ऑक्सीजन की सप्लाई शुरू कर दी जाएगी। एनएफ रेल महाप्रबंधक ने कहा कि कोरोना से जंग के लिए रेलवे ने अपने स्तर से कई तैयारी की है। आइसोलेशन कोच को तैयार रखा गया है।

इधर, ऑक्सीजन प्लांट लगने को लेकर रेल कर्मचारियों में खुशी की लहर दौड़ गई। रेल अस्पताल में लगने वाले ऑक्सीजन प्लांट का लाभ न सिर्फ रेलकर्मी को मिलेगा बल्कि आसपास अस्पतालों को भी इससे ऑक्सीजन की आपूर्ति की जा सकेगी।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप