कटिहार। बरंडी नदी के जल स्तर में वृद्धि व पानी के तेज रफ्तार के चलते जलकुंभी आ जाने के कारण मोरसंडा पंचायत के कमला घाट नदी पर बांस का चचरी पुल ध्वस्त हो गया। कमला घाट पर चचरी पुल ध्वस्त हो जाने की सूचना मिलते ही अंचलाधिकारी रघुवंश कुमार कमला घाट नदी पर पहुंचकर बढ़ते जलस्तर का जायजा लिया तथा घाट पर सरकारी नाव उपलब्ध कराई गई। नाविकों को हर वक्त घाट पर मौजूद रहने का निर्देश दिया गया, ताकि लोगों को आवाजाही में असुविधा ना हो। वहीं मोरसंडा के कमला नदी पार कर रहे लोगों ने बताया कि हर वर्ष ग्रामीण आपसी सहयोग से कमला घाट नदी पर बांस के चचरी पुल का निर्माण करते हैं और इसी चचरी पुल के सहारे उन लोगों का आना-जाना होता है। बरसात के दिनों में नदी में जलस्तर में वृद्धि हो जाने के कारण यह चचरी पुल पानी में बह जाता है। उनलोगों के लिए आवागमन का एकमात्र सहारा नाव ही रहता है। ग्रामीणों ने बताया कि नाव पर आवाजाही करने में दुर्घटना की आशंका बनी रहती है। ग्रामीणों का कहना है कि कमला घाट पर पुल निर्माण की मांग वे लोग दशकों से करते रहे हैं। मामले में मुखिया गोपाल कृष्ण ने कहा कि कमला घाट नदी पर पुल निर्माण को लेकर सांसद व विधायक के पास कई बार गुहार लगा चुके हैं। मगर अब तक कोई ठोस पहल नहीं हो पाई है। विधायक पूनम पासवान ने कहा कि कमला नदी पर पुल निर्माण को लेकर प्रशासनिक स्वीकृति मिल गई है। बहुत जल्द मोरसंडा पंचायत के कमला घाट पर पुल निर्माण का कार्य शुरू किया जाएगा।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021