कैमूर। कोविड-19 का टीका लेने के लिए लोगों में इतनी जागरूकता आ गई है कि टीकाकरण केंद्रों पर भारी भीड़ उमड़ रही है। केंद्रों पर टीका लेने के इच्छुक पुरुषों और महिलाओं की भीड़ इतनी अधिक रह रही है कि शोरगुल और धक्का-मुक्की के चलते अराजक स्थिति हो जा रही है। मंगलवार को स्थानीय प्रखंड अंतर्गत पंचायत सरकार भवन जहानाबाद, बसहीं व घटांव के अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों, ससना व डेरवां के पंचायत भवनों तथा बजरहां गांव के मध्य विद्यालय पर टीकाकरण शिविरों का आयोजन किया गया। लेकिन इनमें अनेक स्थानों पर इतनी अधिक भीड़ थी कि शारीरिक दूरी के पालन की बात तो दूर लोग एक दूसरे को धक्का देते हुए आगे बढ़ने की कोशिश कर रहे थे। बसहीं गांव स्थित अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर भीड़ और धक्का-मुक्की के माहौल में गर्मी और उमस से टीका लेने को इच्छुक अनेक लोग काफी परेशान दिखे। महिलाओं का विशेष रूप से बुरा हाल था। इस संबंध में बसहीं गांव के निवासी प्रमोद पांडेय कहते हैं कि शारीरिक दूरी का पालन नहीं होने से संक्रमण की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता। स्थानीय पंचायत समिति सदस्य नेहाल अंसारी कहते हैं कि अराजक स्थिति में टीकाकरण शिविरों के आयोजन से कोविड-19 पर लगाम लगने की जगह इसके मामलों में बढ़ोतरी हो सकती है। बेहतर यह होता कि सरकार के द्वारा गांव के स्तर पर टीकाकरण शिविरों का आयोजन किया जाता। हर गांव में कोई न कोई विद्यालय या सरकारी भवन जरूर मौजूद है, वहां पर टीकाकरण शिविरों का आयोजन हो सकता है।

बता दें कि इन दिनों वैक्सीन की कमी की वजह से प्रतिदिन टीकाकरण न कर कुछ दिनों के अंतराल पर प्रखंड के विभिन्न स्थानों पर टीकाकरण शिविरों का आयोजन किया जा रहा है। प्रतिदिन टीकाकरण नहीं होने के चलते जिस दिन शिविर का आयोजन होता है उस दिन उन स्थलों पर भारी भीड़ जमा हो जा रही है।

Edited By: Jagran