बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के अंतर्गत वार्षिक माध्यमिक परीक्षा जिले के 24 केंद्रों पर 17 फरवरी से प्रारंभ होगी। परीक्षा को कदाचारमुक्त संपन्न कराने के लिए शनिवार को डीएम डॉ. नवल किशोर चौधरी व एसपी दिलनवाज अहमद ने केंद्राधीक्षकों, स्टेटिक मजिस्ट्रेट, दंडाधिकारी व पुलिस पदाधिकारियों को संयुक्त रूप से समाहरणालय सभागार में संबोधित किया। डीएम ने अपने संबोधन में कहा कि मैट्रिक परीक्षा 2020 को कदाचारमुक्त संपन्न कराने के लिए प्रत्येक परीक्षा केंद्र के बाहर एवं अन्य आवश्यक स्थानों पर सीसी कैमरा लगाया गया है। ताकि कदाचारमुक्त परीक्षा के संचालन में बाधा डालने वाले असामाजिक तत्व सीसीटीवी कैमरे की नजर में आ सके। इसके अलावा परीक्षा केंद्रों के इर्द-गिर्द 200 मीटर की दूरी पर किसी बाहरी व्यक्ति के प्रवेश पर रोक के लिए अपने स्तर से परीक्षा अधिनियमों के अंतर्गत आवश्यक कार्रवाई दंडाधिकारी सुनिश्चित करेंगे।

डीएम ने कहा कि प्रतिनियुक्त दंडाधिकारी अपने आवंटित केंद्र पर परीक्षा प्रारंभ होने के एक घंटा पूर्व ही उपस्थित रहेंगे। उन्होंने कहा कि वार्षिक माध्यमिक परीक्षा 2020 में शामिल होने वाले सभी परीक्षार्थियों के लिए जूता-मोजा पहन कर परीक्षा केंद्र में प्रवेश करना पूरी तरह से वर्जित रहेगा। परीक्षार्थी जूता-मोजा की जगह चप्पल पहन कर ही परीक्षा केंद्र में प्रवेश कर सकेंगे। डीएम ने कहा कि प्रथम पाली के परीक्षार्थियों को परीक्षा प्रारंभ होने के समय सुबह 9:30 बजे से दस मिनट पूर्व अर्थात 9:20 बजे तक प्रवेश की अनुमति दी जाएगी। इसी प्रकार दूसरी पाली के परीक्षार्थियों को भी परीक्षा प्रारंभ होने से दस मिनट पूर्व अर्थात 1:35 मिनट तक का समय दिया जाएगा। निर्धारित समय के बाद परीक्षार्थियों को किसी भी हाल में प्रवेश नहीं दिया जाएगा। वहीं पुलिस अधीक्षक ने सभी कर्मियों को संबोधित करते हुए आपस में समन्वय बना कर परीक्षा को कदाचारमुक्त व शांतिपूर्ण माहौल में संपन्न कराने का प्रयास करें। असामाजिक तत्वों पर ध्यान रखें। किसी भी प्रकार की दिक्कत समझ में आए तो सूचना तत्काल वरीय पदाधिकारियों को दें।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस