स्थानीय प्रखंड क्षेत्र के विभिन्न पंचायत में शौचालय का अधूरा निर्माण कर अनुदान का लाभ लेने वाले लाभुकों को प्रखंड कार्यालय से नोटिस भेजी गई है। नोटिस में बताया गया है कि स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण लोहिया स्वच्छ बिहार अभियान अंतर्गत अधूरे शौचालय या बगैर शौचालय निर्माण के कार्यालय को गुमराह कर प्रोत्साहन  राशि लिया  गया है। यह बहुत ही संगीन मामला है। नोटिस प्राप्ति के एक सप्ताह के अंदर शौचालय निर्माण कर शौचालय की फोटो कार्यालय में जमा करने का निर्देश दिया गया। जिससे जीओ टैगिंग किया जा सके। साथ ही ऐसे लाभुकों से 12 हजार की प्रोत्साहन राशि  को प्रखंड कार्यालय में जमा करने की बात कही गई है। ऐसा नहीं करने वाले लाभुकों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज करते हुए राशि वसूली की कार्रवाई की जाएगी। प्रखंड समन्वयक रवि शंकर बिहारी ने कहा कि पूर्व में जो भुगतान किया जा रहा था उस समय जीओ टैगिग की प्रक्रिया लागू नहीं थी लेकिन अब पूर्व में किए गए शौचालय की प्रोत्साहन राशि के भुगतान का जीओ टैगिग किया जा रहा है।  इस क्रम में जीओ टैगिग कर्मियों द्वारा पाया जा रहा है की कुछ शौचालय अधूरे हैं तो कुछ टूट गए हैं। जिससे जीओ टैंगिग नही हो पा रहा है। वैसे लाभुकों को नोटिस के माध्यम से शौचालय पूर्ण करने के लिए एक सप्ताह का समय दिया जा रहा है। एक सप्ताह बाद भी शौचालय को नहीं चालू किया जाता है तो उनके ऊपर प्रथमिकि दर्ज कर राशि वसूली की कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस