कैमूर। स्थानीय व्यवहार न्यायालय में शनिवार को राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया गया। जिसका उद्घाटन जिला एवं सत्र न्यायाधीश संपूर्णानंद तिवारी ने किया। राष्ट्रीय लोक अदालत में 12 बेंचों पर प्रतिनियुक्त न्यायिक पदाधिकारियों ने मामलों की सुनवाई की। जिसमें 858 मामलों का आन द स्पाट निष्पादन किया गया। मिली जानकारी के अनुसार बैंक से जुड़े 12783 मामलों में 628 मामलों का निष्पादन किया गया। इसमें 54309121 रुपये पर समझौता हुआ। टेलीफोन से जुड़े 600 मामलों में 16 मामलों का निष्पादन 42360 रुपये के समझौता पर किया गया। इस तरह 644 मामलों का निष्पादन 54351481 रुपये के समझौता पर हुआ।

इसके अलावा क्रिमनल के 344 मामलों में 89 का निष्पादन किया गया। इसमें 57 हजार रुपये पर समझौता हुआ। जबकि एमएसीटी केस से जुड़े 51 में छह मामलों का निष्पादन हुआ। श्रमिकों से जुड़े 23 मामलों में एक मामले का निष्पादन दस हजार रुपये के समझौता पर हुआ। बिजली बिल से जुड़े 83 मामलों में 56 मामलों का निष्पादन किया गया। इसमें 986000 रुपये पर समझौता हुआ। वहीं सर्टिफिकेट केस से जुड़े 132 मामलों में 22 का निष्पादन किया गया। इसमें 4394610 रुपये का समझौता हुआ। इस तरह 214 मामलों का निष्पादन 9047610 रुपये पर हुआ। कुल 858 मामलों का निष्पादन 63399091 रुपये के समझौता पर हुआ। लोक अदालत के सफल संचालन में सभी कर्मियों व अधिवक्ताओं ने भी सहयोग किया। लोक अदालत में मामलों की सुनवाई के लिए दूर दराज के गांवों के काफी संख्या में लोग पहुंचे थे। शनिवार को राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन होने के चलते व्यवहार न्यायालय परिसर में काफी भीड़ रही। वहीं प्रत्येक बेंच पर पहुंच कर जिला जज ने मामलों की सुनवाई का निरीक्षण भी किया।

Edited By: Jagran