कैमूर। प्रखंड क्षेत्र के ग्राम पंचायत अमांव के ग्राम तिवई वार्ड संख्या नौ में दो वर्ष पूर्व नल जल योजना के तहत कार्य हुआ एवं उस कार्य को कागजों में ही पूर्ण कर पूरी राशि की निकासी कर ली गई। ग्रामीण लगातार इंतजार करते रहे कि उन्हें जल्द ही नल जल योजना से घर में पानी उपलब्ध हो जाएगा। स्थानीय मुखिया से लेकर प्रखंड स्तर तक के पदाधिकारी से गुहार लगाई। लेकिन इसमें कुछ नहीं हो पाया। थक हार कर ग्रामीणों ने डीएम के पास आवेदन देकर गुहार लगाई। ग्रामीणों की शिकायत पर डीएम ने श्रम अधीक्षक जावेद रहमत से नल जल योजना की जांच कराई।

डीएम को दिए गए आवेदन में ग्रामीणों ने बताया है कि ग्राम तिवई के वार्ड संख्या नौ में नल जल योजना के द्वारा लगाई गई टंकी से वहां के ग्रामीणों को कभी भी पानी नहीं मिला। वार्ड नौ में दिखावा के लिए सिर्फ नल जल योजना संचालित है। इसकी शिकायत चैनपुर बीडीओ के पास की गई। जहां से लगातार इन्हें आश्वासन मिलता रहा कि इन्हें परेशान होने की जरूरत नहीं है, जल्द ही सभी घरों में पानी मिलना शुरू हो जाएगा। काफी समय बीत जाने के बाद भी नल जल योजना से ग्रामीणों को पानी नहीं मिला। वार्ड संख्या नौ की स्थिति को देखकर कैमूर के निवर्तमान जिलाधिकारी डॉ. नवल किशोर चौधरी के द्वारा वार्ड सदस्य पर प्राथमिकी दर्ज कराने का आदेश दिया गया था। लेकिन मिलीभगत के कारण कुछ नहीं हुआ। इस वार्ड में पानी की घोर समस्या है। गांव के हनुमान मंदिर पर एक सबमर्सिबल लगा है। उसी के सहारे पूरे गांव के लोग पानी भर कर अपना काम चलाते हैं। जांच से इस संबंध में चैनपुर बीडीओ राजेश कुमार ने बताया कि श्रम अधीक्षक के द्वारा नल जल योजना की जांच की गई है। वार्ड सदस्य को एक सप्ताह के अंदर नल जल योजना को हर हाल में चालू करने का निर्देश दिया गया है।

Edited By: Jagran