मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

कुदरा में ईयर फोन लगाकर रेलवे ट्रैक पार करने में एक युवा आर्केस्ट्रा कलाकार की जान चली गई। मृत युवक का नाम बाढू कुमार (20 वर्ष) बताया गया है, जो कुदरा में गड़ही पर की अनुसूचित जाति बस्ती के निवासी स्वर्गीय चंद्रिका राम का पुत्र बताया जाता है। वह बुधवार की शाम कुदरा रेलवे स्टेशन से चंद कदम पूरब रेलवे ट्रैक पार करने के दौरान महाबोधि एक्सप्रेस ट्रेन की चपेट में आ गया। इस दर्दनाक घटना से परिजनों में शोक व्याप्त है। स्थानीय लोगों से मिली जानकारी के मुताबिक उक्त युवक कान में ईयरफोन लगाकर रेलवे स्टेशन के पूर्वी केबिन के समीप रेलवे ट्रैक पार कर रहा था। कान में ईयरफोन लगा होने के चलते वह पूरब की ओर से तेज रफ्तार से आ रही महाबोधि एक्सप्रेस की सिटी की आवाज को सुन नहीं सका। इसके चलते ट्रेन की चपेट में आने की वजह से उसकी घटना स्थल पर ही मौत हो गई। बताया जा रहा है कि युवक के पिता की पूर्व में ही मौत हो चुकी थी। जबकि उसका एक अन्य भाई दिव्यांग है। बाढू कुमार अपने परिवार का एकमात्र कमाऊ सदस्य था। वह आर्केस्ट्रा ग्रुप में कलाकार के रूप में काम कर परिवार का भरण पोषण करता था। वह सर्कस में साइकिल से करतब भी दिखाता था। उसकी असमय मौत से उसकी विधवा मां तथा परिजनों पर विपत्ति का पहाड़ टूट पड़ा है।

-------

महीने भर बाद होने वाली थी युवक की शादी

संवाद सूत्र, कुदरा: कुदरा में महाबोधि एक्सप्रेस ट्रेन की चपेट में आकर मौत को प्राप्त होने वाले युवक की महीने भर बाद ही शादी होने वाली थी। स्थानीय बीडीसी सदस्य पियन पासवान बताते हैं कि अपनी शादी के सिलसिले में ही उक्त युवक लालापुर बयाना देने जा रहा था। इसी दौरान दुर्घटना का शिकार हो गया। उन्होंने बताया कि कुदरा की अनुसूचित जाति बस्ती के इस युवक का परिवार पिछले कुछ समय से रेलवे ट्रैक के उस पार लालापुर में झोपड़ी बनाकर रह रहा था। जिसके चलते युवक को अक्सर रेलवे ट्रैक पार करने की जरूरत पड़ती थी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप