नगर के वार्ड 23 में स्थित अपने मामा राजेंद्र खरवार के घर रह कर नगर परिषद के लिए बिजली मिस्त्री का कार्य करने वाले लगभग 32 वर्षीय दिनेश खरवार की पोल से गिर कर घायल होने के बाद वाराणसी में रविवार की रात इलाज के दौरान मौत हो गई। इससे उनकी पत्नी बिदू देवी व दस वर्षीय पुत्र दिव्याशु व आठ वर्षीय पुत्र लक्ष्य कुमार बेसहारा हो गए। उनकी परवरिश कैसे होगी यही चर्चा लोगों की जुबान पर है। समाचार प्रेषण तक ट्रामा सेंटर में शव का पोस्टमार्टम हो चुका था। स्वजन सहित मोहल्ले व नगर परिषद के साथ गए कर्मी शव को लेकर भभुआ के लिए रवाना होने वाल थे। संभावना है शव के घर लाने के बाद उसका दाह संस्कार किया जाएगा। मिली जानकारी के अनुसार जिले के मोहनियां रेलवे स्टेशन रोड निवासी स्व रघुवर खरवार के पुत्र लगभग बचपन से ही नगर के वार्ड 23 निवासी अपने मामा राजेंद्र खरवार के मकान में रहते थे। फिलवक्त वे नगर परिषद के लिए बिजली मिस्त्री का कार्य करते थे। रविवार की दोपहर बाद वे नगर के वार्ड 18 के बाहरी हिस्से में बिजली की गड़बड़ी को ठीक करने गए थे। पोल पर चढने के बाद तार ठीक करने के क्रम में पैर फिसल जाने से वे नीचे गिर पड़े। सिर में गंभीर चोट लगने के कारण तत्काल उन्हें इलाज के लिए सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया। चिकित्सक ने हालत गंभीर देखकर प्राथमिक उपचार के बाद शाम को बेहतर इलाज के लिए ट्रामा सेंटर रेफर कर दिया। वहां पहुंचे के लगभग दो घंटे बाद लगभग साढे आठ बजे इलाज के दौरान ही उनकी मौत हो गई। सोमवार को लगभग चार बजे सभी कार्रवाई पूरी होने के बाद वाराणसी में शव का पोस्टमार्टम हुआ। घटना की जानकारी होते ही नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी के निर्देश पर नप के प्रधान लिपिक शिव कुमार बनर्जी व नाजिर विनोद कुमार सिंह सहित शिव जी आदि कई कर्मी भी मिस्त्री के स्वजन के साथ वाराणसी गए थे। सोमवार को नगर परिषद कार्यालय में नप सभापति प्रतिनिधि बबलू तिवारी व इओ अनुभूति श्रीवास्तव सहित नप कर्मियों व पार्षदों ने शोक सभा कर मृतक के प्रति अपनी संवेदना प्रकट करते हुए विभागीय नियम के अनुसार उनके स्वजनों को हर संभव सहायता देने का निर्णय लिया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस