भभुआ। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत कैमूर जिले में विभिन्न वित्तीय वर्षों में 11 प्रखंड क्षेत्रों के अंतर्गत 15 हजार लाभुकों को आवास देने का लक्ष्य निर्धारित किया गया था। प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ लेने वाले लाभुकों के लिए मानकों का निर्धारण किया गया है। मानकों पर खरा उतरने वाले लाभुकों को ही इस योजना का लाभ दिया जाना है। लेकिन प्रखंड स्तरीय गठित पदाधिकारियों की जांच के दौरान ऐसे अपात्र लाभुक सामने आए जिन्हें इस योजना का लाभ नहीं मिलना चाहिए। वे भी फर्जीवाड़ा कर प्राथमिकता सूची में अपना नाम अंकित करा लिए हैं। जांच के क्रम में चैनपुर प्रखंड में सबसे अधिक 1478 अपात्र लाभुकों को चिह्नित किया गया है। विभागीय निर्देश के आलोक में अयोग्य लाभुकों का नाम हटाए जाने की कार्रवाई की जा रही है। ऐसे अपात्र लोगों के स्थान पर पात्र लाभुकों का चयन कर उन्हें आवास योजना का लाभ दिया जाएगा। ताकि पूरी पारदर्शिता के साथ इस योजना का लाभ पात्र लाभुकों को मिल सके। इस संबंध में पूछे जाने पर उप विकास आयुक्त के पी गुप्ता ने बताया कि जिले में 4679 अपात्र लाभुकों को चिह्नित कर लिया गया है। उनके नाम प्राथमिकता सूची से हटाए जाने की कार्रवाई की जा रही है। उन्होंने कहा कि योजना में किसी भी तरह की गड़बड़ी व लापरवाही बरतने वालों के विरुद्ध भी कार्रवाई होगी।

प्रखंडवार अपात्र लाभुकों की सूची -

प्रखंड - अपात्र लाभुकों की संख्या -

अधौरा - 335

भभुआ - 879

भगवानपुर - 525

चैनपुर - 1478

चांद - 139

दुर्गावती- 126

कुदरा - 84

मोहनियां - 159

नुआंव - 520

रामगढ़ - 279

रामपुर - 155

Posted By: Jagran