जमुई। समाहरणालय स्थित एनआइसी में मंगलवार को राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक लोकेश कुमार ¨सह ने वीडियो कांफ्रें¨सग के माध्यम से कृमि मुक्ति दिवस की तैयारी एवं आरसीएच पोर्टल इम्प्लीमेंटेशन को लेकर समीक्षा की व दिशा-निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि ऐसी तैयारी हो कि कोई बच्चा छूट न पाए। ससमय दवाएं एवं प्रचार सामग्री निर्धारित विद्यालयों एवं आंगनबाड़ी केन्द्रों पर उपलब्ध होना चाहिए। शिक्षा विभाग एवं आइसीडीएस विभाग के समन्वित सहयोग से स्वास्थ्य विभाग द्वारा कार्यक्रम को सफल बनाना है। पोर्टल के संबंध में दिल्ली व स्टेट की एनएचएम टीम द्वारा जिला टीम को निर्देश दिया गया। बताया गया कि इस पोर्टल में सभी एएनएम, आशा, गर्भवती माता, नवजात शिशु तथा परिवार नियोजन प्राप्त कर रहे लाभार्थियों का संपूर्ण विवरण पोर्टल में दर्ज होना चाहिए। विवरण दर्ज होने के बाद माता एवं शिशु की ट्रै¨कग आसान हो जाएगी। बता दें कि कृमि मुक्ति दिवस के अवसर पर एक से 19 वर्ष के बच्चों को एल्बेंडाजोल की गोली खिलानी है। वीडियो कांफ्रें¨सग में प्रभारी सिविल सर्जन डॉ. सुरेन्द्र प्रसाद ¨सह, जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. विनोद कुमार, जिला शिक्षा पदाधिकारी विद्यानंद ¨सह, जिला कार्यक्रम प्रबंधक सुधांशु नारायण लाल, जिला अनुश्रवण एवं मूल्यांकन पदाधिकारी मुकेश कुमार, इपिडेमियोलॉजिस्ट शमीम अख्तर अंसारी उपस्थित थे।

Posted By: Jagran