जमुई। बुधवार को अखंड सौभाग्य की कामना के लिए महिलाओं द्वारा पुरी श्रद्धा के साथ हरितालिका तीज व्रत मनाया गया। जगह-जगह पर सुबह से ही शिव मंदिरों में महिलाओं की भीड़ लगनी शुरू हो गई। यह व्रत महिलाओं द्वारा अखंड सौभाग्यवती एवं पतियों के सुख सौभाग्य व निरोग के लिए शंकर एवं गौरी की पूजा की जाती है। यह व्रत भाद्रपद की शुक्ल पक्ष की तृतीया को मनाई जाती है। यह बिहार के अलावा अन्य राज्यों में भी मनाया जाता है। ऐसी मान्यता है कि भगवान शिव को पाने के लिए माता पार्वती ने इस व्रत को किया था जिसमें उन्होंने अन्न एवं जल तक ग्रहण नही किया था। इसलिए महिलाएं आज भी इस वर्त में निर्जला रह कर भगवान शिव एवं पार्वती की पूजा करती है। इस व्रत को लेकर बुधवार को मंदिरों में काफी चहल पहल देखा गया । शहर के प्रमुख मंदिरों में सुबह से ही पूजा अर्चना शुरु हो गई यह व्रत हिन्दू धर्म में सुहागन महिलाओं के बीच काफी आस्था का पर्व है। शहर के महाराजगंज स्थित बाबा दुखहरन नाथ महादेव मंदिर में महिलाएं समूह में बैठ कर हरतालिका तीज व्रत की कथा सुनी।

Posted By: Jagran