जमुई, जागरण संवाददाता। नगर परिषद क्षेत्र के वार्ड संख्या 15 में समस्याओं की अंबार लगी है। इस बार नगर परिषद चुनाव में इस वार्ड में 1242 पुरुष एवं 1065 महिला कुल मिलाकर 2307 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग कर वार्ड के विकास के लिए जनप्रतिनिधि का चुनाव करेंगे। स्थानीय लोगों ने बताया कि नगर क्षेत्र में रहकर हम लोग गांव से बदतर जिंदगी जी रहे हैं। जमुनिया टांड लगमा के करीब 150 घरों की आबादी के लोगों को विभिन्न प्रकार की समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।

जमुनियाटांड़ जाने वाली सड़कों पर पानी का बहाव होते रहता है, जिसके कारण लोगों को गंदे पानी से होकर गुजरना पड़ता है। नल जल योजना भी इस मोहल्ले में दम तोड़ती नजर आ रही है। हाल यह है कि कई जगहों पर अभी तक पाइप तक नहीं बिछाया गया है। इस मोहल्ले से हटकर देखें तो राजपूत टोला, बाजपेयी टोला, साह टोला में पक्की सड़क का निर्माण करा गया, पर नाला का निर्माण नहीं होने के कारण वर्षा होने पर जल निकासी की समस्या बन जाती है।

गरीबों के सिर पर नसीब नहीं हुई है पक्की छत

प्रधानमंत्री आवास योजना का भी हाल अच्छा नहीं है। निजी स्वार्थ के कारण गरीबों के सिर पर पक्का छत भी नसीब नहीं हो सका है। दर्जनों जरूरतमंद लोग इससे वंचित रह गए हैं। इसकी बानगी 70 घरों के महादलित बस्ती में देखने को मिलती है। महादलित बस्ती में महज 15 लोगों को ही प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ मिल सका है।

बाकी लोग आवास योजना से वंचित रह गए हैं। नल जल योजना का भी हाल बेहाल है। जल नल योजना के तहत 300 घरों में पीने के लिए पानी पहुंचाई जानी थी। अधिकांश टोले में पाइप भी नहीं बिछा है। जिन घरों में जल नल योजना नल लगा है वहां नल से पानी निकलना भी बंद हो गया है। महादलित बस्ती में शौचालय नहीं होने के कारण लोग बाहर में शौच के लिए विवश हैं।

क्या कहते हैं स्थानीय

निवासी प्रमोद कुमार उर्फ डब्बू ने कहा कि इस मुहल्ले में सड़क की स्थिति जर्जर बनी हुई है। जल नल योजना के तहत अभी तक मोहल्ले में पाइप तक नहीं बिछा है।

कामी देवी ने कहा कि महादलित बस्ती के अधिकांश गरीबों को पक्का छत भी नसीब नहीं हो सका है। सामुदायिक शौचालय नहीं रहने के कारण महिलाओं को ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ता है।

पासवान टोला निवासी मंटू पासवान बताते हैं कि टूटी फूटी घरों में बीड़ी बनाकर परिवार के साथ गुजर-बसर कर रहे हैं लेकिन प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत पक्का छत नसीब नहीं हो सका है।

लगमा साह टोला निवासी महेश साह बताते हैं कि जल नल योजना के तहत घर में नल तो लगी है पर दो महीने बाद से ही नल से पानी टपकना बंद हो गया है।

बाजपेयी टोला निवासी देवनारायण बाजपेयी बताते हैं कि नाला का निर्माण नहीं होने के कारण वर्षा होने पर सड़कों पर ही पानी बहने लगता है।

Edited By: Umesh Kumar