जमुई [जेएनएन]। बिहार में इन दिनों सूचना के अधिकार का प्रयाेग मौत का कारण बन रहा है। हाल ही में माेतिहारी में एक आरटरआइ एक्टिविस्‍ट की हत्‍या के बाद देर रात जमुई में भी एक आरटीआइ एक्टिविस्‍ट सहित दो लोगों की हत्‍या कर दी गई। घटना के विरोध में सोमवार की सुबह जमुई में जनाक्रोश उबाल पर रहा। इस बीच पुलिस ने हत्‍याकांड के सिलसिले में एक मुखिया व एक जदयू नेता को गिरफ्तार किया है।

घात लगा मार दी गोली, मौत
जानकारी के अनुसार जमुई के सिकन्दरा थाना अंजर्गत बिछवे गांव की समीप अपराधियों ने आरटीआइ एक्टिविस्‍ट वाल्‍मीकि यादव व कारू यादव की गोली मारकर हत्या कर दी। घटना रविवार की रात तब हुई, जब दोनों बाइक से सिकन्दरा बाजार से बिछवे गांव लौट रहे थे। गांव के समीप पहले से घात लगाए बाइक सवार अपराधियों ने दोनों को घेर कर नजदीक से गोली मार दी।

गोली लगने से घटनास्थल पर ही वाल्‍मीकि यादव की मौत हो गई, जबकि घायल कारू यादव ने इलाज के लिए अस्‍पताल ले जाते वक्‍त रास्‍ते में दम तोड़ दिया।

घटना के विरोध में सड़क पर उतरे लोग
घटना के बाद आज सुबह स्‍थानीय लोग सड़क पर उतर गए। उन्‍होंने सिकंदरा के बिछवे मोड़ के समीप सड़क जाम कर दिया। सड़क जाम के कारण एनएच 333 ए पर घंटों वाहनों की लंबी कतार लगी रही।

एसडीपीओ बोले: हत्‍या सुनियोजित साजिश
वाल्‍मीकि याद के परिजनों के अनुसार वे आंगनबाड़ी में अनियमितता को उजागर करने में लगे थे। हत्‍या के पीछे कारण यह भी हो सकता है। एसडीपीओ रामपुकार सिंह मानते हैं कि यह हत्‍याकांड सुनियोजित साजिश का परिणाम है। इस बीच पुलिस ने स्‍थानीय मुखिया कृष्‍णा रविदास को गिरफ्तार की लिया है। साथ ही पुलिस ने प्रखंड जदयू अध्यक्ष सुरेश महतो को भी गिरफ्तार की लिया।

हाल ही में एक और आरटीआइ एक्टिविस्‍ट की हत्‍या
बता दें कि इससे पहले बिहार के पूर्वी चंपारण जिले के पिपराकोठी थाना क्षेत्र में आरटीआइ एक्टिविस्‍ट राजेंद्र सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। उन्होंने एलआइसी, इंदिरा आवास योजना, शिक्षक व पुलिस नियुक्ति घोटालों का खुलासा किया था।

Posted By: Amit Alok

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप