जमुई। मातृत्व शिशु स्वास्थ्य को लेकर सास-बहू के रिश्तों को मजबूत करने का बीड़ा स्वास्थ्य विभाग ने उठाया है। 15 फरवरी को स्वास्थ्य विभाग द्वारा स्वास्थ्य उपकेन्द्र पर सास बहू सम्मेलन आयोजित की जाएगी। सम्मेलन के लिए चार लाख 18 हजार 500 रुपये का बजट भी तैयार किया गया है। इस संदर्भ में सिविल सर्जन डॉ. श्याम मोहन दास ने सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को निर्देशित किया है। इस सम्मेलन में सास को बच्चों के बीच अंतर रखने, गर्भ निरोधक उपयोग करने तथा बंध्याकरण को लेकर जागरुक किया जाएगा। दरअसल इसके पीछे मंशा यह है कि अक्सर सास की चाहत ज्यादा से ज्यादा पोता व पोती की होती है। नतीजतन सास बहू के गर्भनिरोधक से संबंधित एहतियात बरतने पर पाबंदी लगाती है। बताया जाता है कि सम्मेलन में मातृत्व शिशु स्वास्थ्य से संबंध में भी सास व बहू को जागरुक किया जाएगा। इस दौरान सास से कुछ प्रश्न पूछे जाएंगे जिसके सही उत्तर मिलने पर विभाग द्वारा सम्मानित किया जाएगा। दो बच्चों के बीच का अंतराल, बेटी-बेटा में भेद, टीकाकरण, स्वच्छता के बारे में जागरुक किया जाएगा। सास-बहू सम्मेलन जिले के 279 उपस्वास्थ्य केन्द्र पर आयोजित होगी। सदर में 23 केन्द्र, बरहट में 15, लक्ष्मीपुर 21, गिद्धौर 13, झाझा में 40, सोनो में 37, सोनो में 37, चकाई में 42, खैरा में 38, सिकन्दरा में 25, अलीगंज में 25 केन्द्रों पर आयोजित होगी। पत्र में भवनहीन उपकेन्द्रों को उनके गांव में अवस्थित आंगनबाड़ी केन्द्र, जीविका, सरकारी भवन, पंचायत भवन या सामुदायिक भवन में संचालित करने का निर्देश दिया गया है। साथ ही सभी उपकेन्द्रों पर बीपी उपकरण, हेमोग्लोबीनो मीटर, वजन मापी मशीन, पर्दा, डस्टबीन क्रय करने का निर्देश दिया गया है। साथ मातृत्व एवं शिशु स्वास्थ्य अंतर्गत सभी प्रकार की सेवाएं, मधुमेह जांच व किशोर-किशोरियों को सलाह देने की बात बताई गई।

Posted By: Jagran