जमुई। इस बार धान की अच्छी पैदावार होने की संभावना है। समय पर मौसम मेहरबान हुआ और छिटपुट बारिश हो गई। लिहाजा खेतों में नमी बरकरार रही है, जिससे बेहतर पैदावार की उम्मीद किसानों को हैं। हालांकि धान की फसल में कीट लगने से किसान परेशान हैं।

किसानों के अनुसार अगर छिटपुट बारिश नहीं होती तो किसानों को नुकसान हो जाता। जिले में सिचाई परियोजना के सहारे खेती नहीं की जा सकती है। अधिकांश खेतों में इन जलाशयों व डैमों का पानी नहीं पहुंच पाता है। अभी कीट ने परेशान कर दिया है। कृषि विज्ञान केंद्र के कृषि विज्ञानी डा. प्रमोद सिंह ने बताया कि धान फसलों में पत्र लपेटक (लीफ फोल्डर) कीट देखा जा रहा है। इसका असर उत्पादकता पर पड़ सकता है। कारटाप हाइड्रोक्लोराइड 50 फीसद 2 दो ग्राम प्रतिलीटर अथवा परफेनोफास 50 ईसी डेढ़ मिली प्रति लीटर पानी में घोल बनाकर छिड़काव करें।

लक्ष्मीपुर: प्रखंड क्षेत्र में पूर्वा नक्षत्र में छिटपुट बारिश होने से फसल लहलहा रही है। धान में ललकी नामक बीमारी जिसमें धान का पौधा कीट द्वारा काट देने की बीमारी जोरों पर है। इससे किसान काफी चितित हैं।

खैरा: प्रखंड क्षेत्र में छिटपुट बारिश होने से धान की स्थिति काफी अच्छी है। हालांकि धान की फसल में बकी कीट लग रहा है। जिससे किसान चितित हैं। किसानों ने बताया कि नहर से खेतों में पानी नहीं पहुंच रहा है। लेकिन हल्की-फुल्की बारिश होने से फसल की स्थिति ठीक थी, लेकिन कीट ने हमलोगों की चिता बढ़ा दी है।

चंद्रमंडीह: प्रखंड में धान फसल की इस बार बंपर पैदावार होने की संभावना है। लगातार हो रही छिटपुट बारिश के कारण धान की फसल काफी अच्छी है। कुछ इलाकों में धान की फसल अभी से ही पकनी प्रारंभ हो गई है जो किसानों के लिए चिता का विषय है। रामचंद्रडीह गांव के किसान प्रदीप राय ने बताया कि जो धान अभी से ही पकना शुरु कर दिया है। वह दुर्गा पूजा तक पूरी तरह तैयार हो जाएगा। ऐसे में खलिहान बनाकर धान की पिटाई करना काफी मुश्किल होगा।

गिद्धौर: छिटपुट बारिश होने से प्रखंड क्षेत्र में धान की खेती की स्थिति अच्छी है। कही-कही धान की फसल में बक्की कीट लगना शुरु हुआ है। कृषकों ने बताया कि सिचाई नहर से खेतों में पानी तो नहीं पहुंच रहा है, लेकिन समय-समय पर हो रही बारिश से फसल की स्थिति अब तक ठीकठाक है।

बरहट: प्रखंड में धान की अच्छी पैदावार होने की संभावना हैं। कुछ दिन पहले बारिश नहीं होने के कारण किसान को फसल की चिता सता रही थी, लेकिन समय-समय पर हो रही बारिश ने किसानों को राहत दिया है। किसान पांचू यादव ने बताया कि इस बार पिछले साल से अच्छी पैदावार होने की संभावना है।

Edited By: Jagran