संवाद सहयोगी, जमुई : जमीन विवाद, जायदाद और प्रेम-प्रसंग में रिश्तेदार अपने ही खून के प्यासे होते दिखाई दे रहे हैं। जिले में घटी ऐसी घटनाएं इस बात की ताकीद करती है। हकीकत यह है कि ऐसी घटनाओं से समाज में सिर्फ और सिर्फ रिश्ते कलंकित हो रहे हैं। यूं कहें कि निजी स्वार्थ और लालच में खून के रिश्तों पर चाकुओं की धार भारी पड़ रही है। पुलिस के बड़े अधिकारियों की मानें तो पारिवारिक विवाद से संबंधित आने वाली सभी शिकायतों पर विशेष ध्यान दिया जाता है। इसमें लापरवाही बरतने पर संबंधित पुलिस अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई की जाती है।

-------

केस स्टडी एक

बीते साल के छह दिसंबर को भूमि विवाद में सिकंदरा थाना क्षेत्र के विशनपुर निवासी चिटू सिंह की उस वक्त गोली मारकर हत्या कर दी गई थी जब वह घर से सिकंदरा बाजार जाने के लिए निकला था। हत्या का आरोप चचेरे भाइयों पर लगा था।

-----

केस स्टडी दो

बीते साल के 22 दिसंबर को चंद्रदीप थाना क्षेत्र के सांपो गांव निवासी विकास कुमार की हत्या कर दी गई थी। घटना के एक दिन बाद ही पुलिस ने हत्याकांड का पर्दाफाश कर मृतक की पत्नी के अलावा तीन लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। अनुसंधान में पुलिस को पता चला कि प्रेम-प्रसंग में पत्नी ने ही अपने प्रेमी व उसके साथियों के साथ मिलकर विकास की हत्या की थी।

-------

केस स्टडी तीन

26 जवनरी की रात चरकापत्थर थाना क्षेत्र के थम्हन गांव में महज दो बीघा जमीन के विवाद में दबंगों ने धारदार हथियार से हमला कर जागेश्वर यादव के पुत्र उमेश यादव (40) की हत्या कर दी। स्वजन ने हत्या का आरोप चचेरे भाइयों पर लगाया है।

Edited By: Jagran