जमुई। त्रिपुरा में कम्युनिस्ट नेता लेलिन की मूर्ति तोड़े जाने की घटना के विरोध में बुधवार को भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी द्वारा शहर में प्रतिरोध मार्च निकाला गया। प्रतिरोध मार्च पार्टी कार्यालय से निकलकर कचहरी चौक, धर्मशाला रोड होते हुए पुन: कार्यालय परिसर में आकर संपन्न हुआ। मौके पर वक्ताओं ने कहा कि उन्मादियों द्वारा जिस तरह से देश में समाज सुधारकों एवं महापुरुषों की मूर्ति तोड़े जाने की घटना का सिलसिला शुरू किया गया है उससे देश में गृह युद्ध जैसी स्थिति उत्पन्न हो रही है। भाजपा और मोदी सरकार देश की एकता-अखंडता को खतरे में डालकर गरीब किसान की जरुरत से लोगों का ध्यान हटाकर चुनावी फायदे के लिए सामाजिक सौहार्द बिगाड़ने के साथ समाज में वैमनस्यता कायम करना चाहती है। वक्ताओं ने कहा कि मूर्ति तोड़े जाने के प्रयास का सीपीआइ एवं वामदल घोर और भ‌र्त्सना करती है। प्रतिरोध मार्च में सीपीआइ नेता गजाधर रजक, रुपेश ¨सह, खेमस नेता मुरारी तूरी, रामनरेश कुमार, रेखा देवी, धारी देवी, नागेन्द्र ¨सह, ¨वदेश्वरी राम, गो¨वद यादव, बबन शर्मा, नितेश्वर आजाद, भरत मंडल, शिशुपाल, महेन्द्र मांझी, बाबूलाल ठाकुर, भाषो यादव, सुरेश पासवान, लखन ¨बद, बासुदेव ठाकुर, नेपाली राम, कल्लू मांझी सहित दर्जनों की संख्या में कार्यकर्ता मौजूद थे।

Posted By: Jagran