जमुई। कोरोना की दूसरी लहर में सभी न्यायिक कार्य बुधवार से ऑनलाइन वर्चुअल मोड में कर दिया गया है। बुधवार से ही जमानत और जरूरी आवेदन की फाइलिग पूर्व की तरह सामान्य प्रक्रिया से करने के बाद सुनवाई वीडियो कॉलिग के जरिए प्रारंभ कर दी गई।

इस बाबत जिला एवं सत्र न्यायाधीश अशोक कुमार गुप्ता ने सभी न्यायालय एवं जिला विधिज्ञ संघ के अधिवक्ताओं को सूचित कर दिया गया। उधर जमुई जेल में बंद कैदियों को भी कोरोना की दूसरी लहर के बढ़ते खतरे को देखते हुए आम फिजिकल परिवार वालों से मुलाकाती की जगह फोन और वीडियो कॉलिग के जरिए मुलाकात कराया जा रहा है। ऐसे में कैदियों को तथा उसके परिवार तथा अधिवक्ताओं को भी काफी कठिनाई का सामना करना पड़ा है। उधर ऑनलाइन मोड में न्यायालय के आने के बाद न्यायिक कार्यों के निपटारे की रफ्तार फिर एक बार काफी धीमी हो गई और न्यायालय परिसर में भी सन्नाटे जैसा दृश्य पसर गया है। एक ओर प्रचंड गर्मी और दूसरी ओर कोरोना के कारण सतर्कता और कड़े निर्देश के पालन के दौरान फिर आम जनजीवन खासकर कोर्ट कचहरी की रफ्तार धीमी देखने को मिल रही है। जेल सुपरिटेंडेंट ने भी पूछने पर बताया कि राज्य से कई कड़े निर्देश दिए गए हैं जिसका अनुपालन कराया जा रहा है कैदियों की सुरक्षा के साथ-साथ जेल कर्मियों की भी सुरक्षा अत्यंत संवेदनशील विषय है। ऐसे में बाहर से ड्यूटी पर आने वाले पुलिसकर्मियों को भी क्वारंटाइन नियमों का अनुपालन कराने के बाद ही ड्यूटी लगाई जा रही है।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021