जमुई। राष्ट्रीय आपदा मोचन बल एनडीआरएफ की नौवीं वाहिनी ऑक्सफोर्ड पब्लिक स्कूल के संवाद कक्ष में प्राकृतिक आपदा राहत एवं बचाव के लिए जन जागरूकता अभियान के अंतर्गत विशेष क्षमता वर्धन शिविर का आयोजन किया। निदेशक डॉ. मनोज कुमार सिन्हा ने शिविर का शुभारंभ करते हुए कहा कि प्राकृतिक आपदा से बचने के लिए इंसान को सजग रहना चाहिए।

उन्होंने प्राकृतिक आपदा के शिकार लोगों को तुरंत प्राथमिक उपचार मुहैया कराकर उन्हें राहत पहुंचाया जाना मानव का फर्ज है।

गृह मंत्रालय की नौवीं वाहिनी राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के उप निरीक्षक जितेंद्र कुमार ने मौके पर कहा कि जमुई जिला में इसके माध्यम से 23 नवंबर तक सार्वजनिक स्थलों पर शिविर का आयोजन कर आम जनों को प्राकृतिक आपदा से राहत और बचाव की विधियों की जानकारी दी जाएगी। उन्होंने ऑक्सफोर्ड पब्लिक स्कूल के बच्चों को प्राकृतिक आपदा से राहत एवं बचाव के तरीकों की जानकारी देते हुए कहा कि भूकंप, बाढ़, चक्रवात, तूफान जैसी बड़ी दुर्घटना आदि आपदाओं को गंभीरता से लें और प्राथमिक उपचार के बाद पुलिस लोगों को तुरंत अस्पताल में दाखिल कराएं। उन्होंने मौके पर प्राकृतिक आपदा से पीड़ित लोगों के रक्त स्त्राव को रोकने की विधि बताते हुए कहां की खून के बचाव से जीवन का बचाव संभव है। कार्यक्रम को सहायक उपनिरीक्षक उपेंद्र सिंह, प्राचार्य ऋतुराज सिन्हा, प्रशासक नीरज सिन्हा आदि ने कार्यक्रम को संबोधित किया और एनडीआरएफ के द्वारा आपदा से बचाव एवं राहत के लिए आयोजित क्षमता वर्धन शिविर की तारीफ की। एनडीआरएफ टीम के सदस्य श्याम मोहन, जीवेश कुमार मिश्रा, नित्यानंद पाठक, विवेक कुमार, अजय कुमार एवं आकाश कुमार ने शिविर में डेमो प्रस्तुत कर बच्चों को विशेष जानकारी दी। उप निरीक्षक जितेंद्र कुमार ने शिविर के अंत में स्कूली छात्र छात्राओं को मंच पर बुलाकर उन्हें डेमो के जरिए राहत एवं बचाव की जानकारी दी। बच्चे प्राकृतिक आपदा से राहत एवं बचाव की जानकारी प्राप्त प्रसन्न दिख रहे थे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप