-प्रधानाध्यापक और शिक्षकों से मांगा गया स्पष्टीकरण

-ग्रामीणों ने बताया-नहीं खुलता है नियमित स्कूल

-मध्याह्न भोजन भी नहीं मिलता है नियमित

संवाद सूत्र, झाझा (जमुई): प्रखंड विकास पदाधिकारी दीपेश कुमार ने प्रखंड के आधा दर्जन विद्यालयों का निरीक्षण किया। इसमें तीन विद्यालय बंद मिले। बीडीओ ने गांव पहुंच ग्रामीणों से विद्यालय की वस्तुस्थिति की जानकारी ली। उन्होंने प्रधानाध्यापक समेत शिक्षकों के विरुद्ध कार्रवाई करने का संकेत दिया है। उन्होंने बताया कि प्रखंड के उग्रवाद प्रभावित विद्यालयों की वस्तुस्थिति से अवगत होने के लिए विद्यालयों की जांच की गई। जिसमें सिमरका राजकीय प्राथमिक विद्यालय, करहरा स्कूल एवं मध्य विद्यालय बंद पाया गया। ग्रामीणों ने बताया कि विद्यालय सप्ताह में एक या दो बार ही खुलता है। सोमवार को विद्यालय नहीं खुलने की बात कही। तीनों विद्यालय के प्रधानाध्यापक एवं शिक्षको से स्पष्टीकरण मांगा गया है। जिसमें सिमरका नरेश यादव, प्रमोद तांती एवं चंद्रशेखर यादव के अलावा करहरा स्कूल के प्रकाश कुमार, एकता कुमारी, सुबोध कुमार, अनिल कुमार दास, अनिल कुमार, सोनी कुमारी शामिल हैं। सभी से कहा कि दोपहर विद्यालय का निरीक्षण किया गया। विद्यालय बंद रहने के कारण सरकार द्वारा बच्चों को उपलब्ध कराए जाने वाली मध्याह्न भोजन एवं अन्य का निरीक्षण नहीं किया जा सका। इसके अलावा इन गांवों के प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभार्थियों से मुलाकात की गई। आवास निर्माण के लिए लाभार्थी को जागरूक किया। साथ ही आवास निर्माण के लिए उपलब्ध सामान की जांच की गई। मालूम हो कि प्रखंड के कई आवास लाभार्थी ऐसे हैं जिन्होंने प्रथम किश्त लेकर भी आवास का निर्माण नहीं कर रहे हैं। ऐसे लाभार्थियों को चिन्हित करने का कार्य किया जा रहा है। इस मौके पर कई ग्रामीण उपस्थित थे।

Edited By: Jagran