जहानाबाद : लक्ष्य प्राप्ति के लिए धुन के पक्के व्यक्ति के आगे प्रतिकूल परिस्थितियों भी बौना साबित होती है। यह बात खुशबू कुमारी ने बिहार लोक सेवा आयोग के परीक्षा में सफलता प्राप्त करके शत प्रतिशत सही कर दी है दो बच्चों की मां एवं सेवानिवृत्त सेना के जवान की पत्नी होने के बावजूद घर के सारे जिम्मेदारियों को निभाते हुए उसने इस परीक्षा में सफलता का जो झंडा गाड़ा। वह न केवल अत्यंत पिछड़े गांव बेतौली मठ के लिए बल्कि इलाके लिए गर्व की बात है। इसे एक कीर्तिमान कहा जा सकता है बिहार लोक सेवा आयोग की परीक्षा में 340वां रैंक लेकर श्रम एवं प्रवर्तन पदाधिकारी का पद भले ही प्राप्त किया हो लेकिन यह उनके परिस्थितियों को देखते हुए बहुत बड़ी सफलता कही जा सकती है। पति अरविद कुमार सेना का जवान से सेवानिवृत्त होने के बाद पत्नी को उसके लक्ष्य की प्राप्ति के लिए काफी सहयोग दिया। खुशबू कुमारी एकंगर सराय सुखदेव एकेडमी से मैट्रिक करने के बाद नालंदा विश्वविद्यालय से एमए की डिग्री प्राप्त की तथा वर्तमान में वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय से पीएचडी की शोधार्थी हैं। उनके सफलता पर न सिर्फ उसके गांव के लोग बल्कि हुलासगंज प्रखंड के लिए नाज की बात है हुलासगंज प्रखंड के दो लड़कियों ने इस परीक्षा में बाजी मार के अपने दमखम को प्रदर्शित किया है। खुशबू दो बच्चों की मां है एक बड़ी बच्ची जो 11 साल की है तथा बच्चा चार वर्ष का नर्सरी का विद्यार्थी है। अपने पारिवारिक दायित्वों का निर्वहन करते हुए उसने जो कीर्तिमान बनाया उसके लिए मुड़गांव पंचायत के मुखिया राजकुमार उर्फ निप्पु ने उन्हें सराहते हुए अन्य लोगों को भी प्रेरणा लेने की बात कही है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप