जहानाबाद : शहर से होकर गुजरने वाली एनएच 83 पर हमेशा अवैध पार्किंग की जाती है। ऐसे में इस रास्ते से आने-जाने वाले लोग हलकान-परेशान रहते हैं। सड़क के किनारे नाले के उपर फुटपाथ का रूप दिया गया है। इस पर लोग पैदल आसानी से आ जा सकते हैं, लेकिन इस फुटपाथ पर भी दुकानें लगी रहती है। फुटपाथ से सटे सड़क के किनारे दो तथा चार पहिया वाहन भी खड़े रहते हैं। परिणाम स्वरूप एनएच के बीच का भाग ही वाहनों तथा पैदल आने-जाने वालों का एकमात्र रास्ता बच जाता है। इससे एक ओर जहां जाम की समस्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है, वहीं सड़क दुर्घटनाएं भी अधिक हो रही है। इस हालात में प्रशासन द्वारा कोई कार्रवाई नहीं होने से अतिक्रमणकारियों के हौसले और बुलंद होते जा रहे हैं।

कभी-कभी अतिक्रमण हटाने का अभियान भी चलाया जाता है। इस मुहिम के तहत कार्रवाई होने के बाद इस दिशा में लगातार पहल नहीं होने से स्थिति पुन: पहले जैसी बन जाती है। अतिक्रमणकारी फिर से पूरे लाव लश्कर के साथ उसी स्थान पर काबिज हो जाते हैं। हालात यह है कि जिस दिन अतिक्रमण हटाने को लेकर अभियान चलता है उसके कुछ ही घंटे बाद फिर पहले की तरह ही स्थिति कायम हो जाती है। स्थाई दुकानदारों द्वारा भी किया जाता है अतिक्रमण

एनएच के किनारे कई दुकानें ऐसी हैं जिसका आधा सामान दुकान के बाहर सड़क के किनारे फैला रहता है। हालात यह है कि इन दुकानदारों द्वारा फुटपाथ पर ही शोरूम बना दिया गया है। स्थाई दुकानदार अपने प्रतिष्ठान के बाहर के फुटपाथ को अपना दुकान का ही अंग समझते हैं। पैदल आने-जाने वाले लोग बड़ी मुश्किल से किसी तरह आते जाते हैं। इतना ही नहीं जिस रास्ते से लोगों को पैदल आने-जाने की सुविधा उपलब्ध कराई गई है उस पर कहीं साइकिल बिकती है तो कहीं पंचर बनाया जाता है। इसके अलावा कई लोग अन्य तरह से भी फुटपाथ पर हीं दुकान चला रहे हैं। क्या कहते हैं नप के कार्यपालक पदाधिकारी

अतिक्रमण को लेकर किसी भी प्रकार की राहत नहीं दी जाएगी। एनएच के किनारे फैले अतिक्रमण के विरुद्ध कार्रवाई होगी, जो लोग स्वेच्छा से अपनी दुकान नहीं हटाएंगे उनके विरुद्ध कानूनी प्रक्रिया के तहत जुर्माने की राशि वसूली जाएगी।

कपिलदेव प्रसाद,कार्यपालक पदाधिकारी

Edited By: Jagran