जहानाबाद। पुलिस को नक्सलियों के खिलाफ संचालित अभियान में फिर बड़ी सफलता हासिल हुई है। उसमें प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा माओवादी के एरिया कमांडर धर्मवीर उर्फ बादल को गिरफ्तार कर लिया गया है। उसके पास से एक देशी कट्टा, दो जिंदा कारतूस, पल्सर मोटरसायकिल, एक बैग तथा नक्सली साहित्य की भी बरामदगी की गई है। गिरफ्तार बादल पार्टी की शहादत दिवस समारोह की तैयारी में जुटा हुआ था। इसी दौरान उसने अपने सहयोगियों के साथ मिलकर किसी बड़ी घटना को अंजाम देने में भी जुटा था।

स्थानीय पुलिस कार्यालय में सोमवार को गिरफ्तार बादल के समक्ष पत्रकारों को संबोधित करते हुए एसपी आदित्य कुमार ने बताया कि पुलिस को यह गुप्त सूचना मिली थी कि परसविगहा थाना क्षेत्र के अमैन गांव निवासी व सोन-पुनपुन एरिया कमेटी के एरिया कमांडर धर्मवीर उर्फ बादल पैसे की वसूली के साथ-साथ पार्टी की टास्क को पुरा करने के लिए मोटरसायकिल से अरवल की ओर रवाना होने वाला है। जानकारी मिलते हीं अपर पुलिस अधीक्षक अनिल कुमार सिंह के नेतृत्व में टीम का गठन किया। उस टीम में परसविगहा के थानाध्यक्ष ऋतुराज तथा शकुराबाद के थानाध्यक्ष रविन्द्र नाथ यादव के साथ हीं डीआईयू की टीम को भी शामिल किया गया। इतना ही नहीं उनपर निगरानी रखने तथा गिरफ्तारी के लिए जगह-जगह पर सशस्त्र बलों की भी तैनाती की गई। एसपी ने बताया कि पुलिस को यह आशंका थी कि बादल हथियारबंद दस्ते के लोगों के साथ गुजर सकता है। इस उद्देश्य से जगह-जगह पर एसएसबी के जवानों की भी तैनाती की गई थी। रविवार की शाम बसंतपुर पेट्रोल पंप के समीप एक संदिग्ध मोटरसाइकिल आते देख पुलिस ने उसे रोकने का इशारा किया लेकिन वह मोटरसायकिल को छोड़कर भागने लगा। एसपी ने जानकारी दी कि पुलिस द्वारा खदेड़कर उसे पकड़ लिया गया और मोटरसाइकिल को भी कब्जे में ले लिया गया है। पूछताछ के क्रम में स्वीकार किया है कि वह सोन-पुनपुन एरिया कमेटी का एरिया कमांडर है। मुकेश उर्फ लालदास की गिरफ्तारी के बाद जुलाई महीने से उसे यह जिम्मेदारी सौंपी गई थी। वह बिहार,झारखंड स्पेशल एरिया कमेटी के सदस्य प्रदूमन शर्मा के निर्देशन में नक्सली घटनाओं का अंजाम देता है। एसपी ने बताया कि उसके पास बीआर-01एबी-6032 नम्बर की मोटरसाइकिल बरामद की गई है। श्री कुमार के अनुसार उसके खिलाफ परसविगहा के साथ हीं पटना जिले के पालीगंज थाने में गाड़ी जलाने आदि से संबंधित तीन अन्य मामले दर्ज हैं। बादल ने बताया कि वह जमीनी विवाद के कारण वर्ष 2012 में संगठन में शामिल हुआ था। उसने यह भी बताया कि संगठन में शामिल होने के लिए मुकेश दास ने प्रेरित किया था। उसके सहयोग से जमीनी विवाद का निपटारा भी हुआ था। एसपी ने बताया कि यदि इसकी गिरफ्तारी नहीं होती तो शहादत दिवस के अवसर पर किसी बड़ी घटना को अंजाम देता। इस अवसर पर एएसपी अभियान अनिल कुमार सिंह, नगर थानाध्यक्ष नागेन्द्र सिंह भी मौजूद थे।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप