जहानाबाद, जेएनएन। बुधवार की शाम विसर्जन को ले जाई जा रही प्रतिमा को क्षतिग्रस्त करने के बाद शुरू हुई हिंसा तीसरे दिन शनिवार को पुलिस-प्रशासन के प्रयास से थम गई। आज चौथे दिन जिंदगी पटरी पर लौटने लगी। शाम पांच बजे तक दुकानें खुलीं। लोगों ने जरूरत के सामान खरीदे। तीन दिन से वीरान सड़कें खरीदारों की भीड़ से गुलजार हो गईं। सड़कों पर ऑटो चले। रेलवे स्टेशन पर चहल-पहल दिखी। कहीं से हिंसक झड़प की सूचना नहीं है। हालांकि, शांति व्यवस्था बनाए रखने को चौक-चौराहों पर भारी पुलिस बल तैनात है। ऐहतियातन धारा 144 अब भी लागू है और इंटरनेट सेवा बंद है। 

अब तक 75 लोगों की हुई गिरफ्तारी

रविवार को भी रैफ जवानों ने फ्लैग मॉर्च कर उपद्रवियों को सिर उठाने का मौका नहीं दिया। 17 और लोगों को गिरफ्तार किया गया। अब तक पुलिस 75 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है। रविवार को एसडीओ निवेदिता कुमारी ने लाउडस्पीकर से सुबह से पांच बजे तक दुकानें खोलने का प्रचार कराया। दुकानें खुलीं तो लोगों ने जरूरत का सामान खरीदा। राष्ट्रीय राजमार्ग 83 पर पुलिस के साथ आमजन के वाहन भी दिखे।  

खरीदारी को घर से निकलीं महिलाएं

खरीदारी को ज्यादातर महिलाएं घर से निकलीं। संवेदनशील जगहों पर बीएमपी व रैफ जवानों को तैनात किया गया है। कुछ रास्ते अब भी बंद हैं। एसडीओ ने बताया कि जिले में धारा 144 लागू है। यदि इसी तरह का माहौल रहा तो सोमवार से आम दिनों की तरह दुकानें खुलेंगी। एएसपी अयोध्या प्रसाद, एसडीपीओ प्रभात भूषण श्रीवास्तव, संजीव कुमार ङ्क्षसह, अमन कुमार, राजेंद्र प्रसाद, उपकमांडेंट राकेश कुमार आदि के नेतृत्व में नगर थाना से शुरू होकर फ्लैग मार्च निकलकर उंटा मोड़, मलहचक, फिदा हुसैन मोड़, एरोड्रम, पंचमहला, कच्ची मस्जिद, गांधी नगर चौक होते हुए विभिन्न गलियों व बाजारों से गुजरा। रास्ते बंद होने से शहर में सब्जियों की आवक नहीं हो रही है। 

शुक्रवार को हुई थी छात्र की हत्‍या

बता दें कि शुक्रवार को छात्र की हत्या की खबर फैलते ही गौरक्षणी, पंचमहला, प्यारी मोहल्ला, आंबेडकर नगर, जाफरगंज, सोइया घाट आदि जगहों पर जमकर रोड़ेबाजी हुई। सोइया घाट में दो पक्षों के बीच गोलियां चलीं। इसमें मिथुन कुमार नामक युवक जख्मी हो गया। वहीं, गोरक्षणी मोहल्ले के वार्ड पार्षद पप्पू शर्मा के भाई एक निजी चैनल के रिपोर्टर निशांत कुमार रोड़ेबाजी में गंभीर रूप से घायल हो गए। मिथुन व निशांत दोनों को गंभीर हालत में पीएमसीएच रेफर किया गया है।

 उपद्रवियों के सामने बेबस रहा पुलिस-प्रशासन 

शुक्रवार को उपद्रवियों के सामने पुलिस व प्रशासन के लोग बेबस नजर आए। दिनभर हुए पथराव में पंचमहला मोहल्ले के पूर्व वार्ड पार्षद शैलेश कुमार, जाफरगंज मोहल्ले के मो. शाहिद, परवेज समेत करीब दर्जन भर लोग घायल हुए हैं। परवेज स्थानीय उंटा मध्य विद्यालय में शिक्षक नियोजन की काउंसलिंग में भाग लेने आया था। हालांकि शनिवार को शहर थोड़ा शांत है। एडीजी अमित कुमार के साथ मगध क्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक पारसनाथ गुरुवार से ही यहां कैंप किए हुए हैं। शनिवार को भी वे जहानाबाद में डटे हुए हैं और अधिकारियों को आवश्‍यक निर्देश दिए हैं।  

 डीएम-एसपी लगातार नजर रखे हुए हैं 

डीएम नवीन कुमार, एसपी मनीष, एसडीओ निवेदिता कुमारी, एएसपी पंकज कुमार तथा एसडीपीओ प्रभात भूषण श्रीवास्तव दलबल के साथ शहर में घूम रहे हैं। अरवल, गया, पटना तथा नालंदा से भी भारी पुलिसबल और अधिकारी कैंप कर रहे हैं। गुरुवार से जो दुकानें बंद हैं, वे शनिवार को भी नहीं खुली हैं। वाहनों का परिचालन नहीं होने से बाहर से आनेवाले लोग परेशान हैं। जरूरी काम के बिना किसी को घर से नहीं निकलने की हिदायत पुलिस दे रही है। एसपी मनीष ने कहा कि पुलिस गश्‍ती जारी है और उपद्रवियों व संदिग्‍धों पर विशेष नजर है। शनिवार को भी 58 लोगों को हिरासत में लिया गया है।  

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस