गोपालगंज। सिविल सर्जन का आदेश भी सदर अस्पताल के इमरजेंसी कक्ष में भर्ती मरीजों को राहत नहीं दिला सकी। शनिवार की रात सिविल सर्जन डा.मदेश्वर प्रसाद वर्मा ने सदर अस्पताल के इमरजेंसी कक्ष का निरीक्षण किया था। निरीक्षण के दौरान बेड पर चादर नहीं लगी देख उन्होंने स्वास्थ्य कर्मियों को फटकार लगाते हुए तत्काल बेड पर चादरें लगाने का आदेश दिया था। लेकिन सीएस के इस आदेश की अगले दिन रविवार को ही हवा निकल गयी। रविवार को भी सदर अस्पताल की व्यवस्था जस की तस बनी रही। इमरजेंसी कक्ष में न तो ठीक से साफ सफाई की गयी थी और ना ही किसी बेड पर चादरें लगायी थी। मरीज बिना चादर लगे बेड पर ही लेटने को मजबूर रहे। यहां भर्ती मरीजों ने बताया कि शनिवार की रात सीएस के निरीक्षण के बाद यह उम्मीद बंधी थी कि बेड पर चादर लगा दी जाएगी और यहां की व्यवस्था में सुधार किया जाएगा। लेकिन सीएस का आदेश भी किसी काम नहीं आया। वहीं इस संबंध में पूछे जाने पर प्रभारी स्वास्थ प्रबंधक खुशबू कुमारी कहती है कि इमरजेंसी कक्ष के सभी बेड पर चादर लगाया गया है। हालांकि प्रभारी स्वास्थ्य प्रबंधक के इस दावे के बाद भी इमरजेंसी कक्ष के किसी बेड पर चादर नहीं दिखी। शायद फाइलों में ही चादरें लगाकर सीएस के आदेश का पालन कर लिया गया।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप