जागरण संवाददाता, गोपालगंज : जिले में लगातार बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए अब निजी अस्पतालों में भी होगी रैपिड एंटीजन टेस्ट से कोरोना की जांच की जाएगी। इस जांच के लिए संबंधित जांच केंद्र में तैनात लैब टेक्नीशियल व डाटा इंट्री ऑपरेटर को बकायदा प्रशिक्षित किया जाएगा। स्वास्थ्य विभाग ने इस संबंध में निजी अस्पतालों को भी दिशानिर्देश जारी किया है।

जानकारी के अनुसार स्वास्थ्य विभाग ने आईसीएमआर के निर्देश के बाद सभी प्रकार के निजी अस्पताल, डायग्नोस्टिक सेंटर व लैबोरेट्री में रैपिड एंटीजन कीट के माध्यम से कोविड-19 जांच की सुविधा प्रदान करने का निर्देश दिया है। इसके लिए निजी चिकित्सा संस्थानों को इस जांच के लिए सिविल सर्जन से अनुमति प्राप्त करनी होगी। सिविल सर्जन से अनुमति प्रदान करने के बाद ही रैपिड एंटीजन किट के माध्यम से निजी संस्थान जांच कर सकते हैं। जांच करने वाले निजी अस्पताल या सेंटर को हर दिन के पूरे टेस्टिग का विवरण आईसीएमआर पोर्टल पर अपलोड करना होगा और पोर्टल पर अपलोड करने संबंधी जानकारी जिला स्वास्थ्य समिति, पटना को देनी होगी।

इनसेट

निजी स्वास्थ्य संस्थानों को इन शर्तों का करना होगा पालन

गोपालगंज : रैपिड एंटीजन कीट जांच के लिए निजी स्वास्थ्य संस्थानों को शर्तों का पालन करना होगा। संबंधित निजी चिकित्सा संस्थान में अनिवार्य रूप से पैथोलॉजिस्ट, माइक्रोबायोलॉजिस्ट उपलब्ध कराने होंगे। साथ ही संबंधित संस्थान के लैब टेक्नीशियन एवं डाटा एंट्री ऑपरेटर उपलब्ध कराना होगा। लैब टेक्नीशियन एवं डाटा एंट्री ऑपरेटर को इसके लिए सदर अस्पताल में दो दिवसीय प्रशिक्षण दिया जाएगा। जिसके बाद अनुमति प्राप्त निजी चिकित्सा संस्थान अनिवार्य रूप से प्रतिदिन किए जाने वाले जांच राज्य स्वास्थ्य समिति बिहार के पोर्टल पर प्रविष्ट भी करेंगे।