गोपालगंज। जिले के ग्रामीण इलाकों की जर्जर सड़कों के साथ ही एनएच 28 की दशा सुधारी जाएगी। इसके साथ ही हाईवे के किनारे साइन बोर्ड भी लगाया जाएगा। ताकि हाईवे से गुजर रहे राहगीरों को आसपास के जगहों के बारे में जानकारी मिल सके। हाईवे से मिल रही सड़क के बारे में समय से पता चल सके। बुधवार को कलेक्ट्रेट परिसर स्थित सभागार में सड़क सुरक्षा को लेकर हुई बैठक में यह निर्णय लिया गया। बैठक में एनएचएआइ के अधिकारी निशाने पर रहे। सांसद डॉ. आलोक कुमार सुमन की अध्यक्षता में हुई बैठक में मौजूद सूबे के समाज कल्याण मंत्री रामसेवक सिंह ने हाईवे की दशा को लेकर कई सवाल पूछे। मंत्री रामसेवक सिंह ने कहा कि जिले में प्रवेश करने के बाद एनएच 28 की स्थिति देखने के बाद मन चितित हो जाता है। 15 साल में जब यह ठीक नहीं हो सका तो कब ठीक होगा। एनएच 28 के किनारे कहीं भी साइन बोर्ड नहीं लगाया गया है। जिससे जानकारी हो सकें कि आगे कौन गांव या कौन शहर है। इससे बाहर से आने वाले लोगों को परेशानी होती है।

वहीं सांसद डॉ. आलोक कुमार सुमन ने कहा कि शहर के बंजारी से लेकर हजियापुर मोड़ तक एनएच 28 की दशा काफी खराब है। आए दिन हादसे हो रहे है। ग्रामीण इलाके की सड़कों के किनारे संकेत देने वाले साइन बोर्ड नहीं लगाया गया है। बैठक में मौजूद विधायक मिथिलेश तिवारी ने हाईवे पर स्थित बढ़ेया मोड़ व महम्मदपुर मोड़ के किनारे ओवरब्रिज के नीचे सड़क पर बने गड्ढो को दुरुस्त करने की मांग किया। इस दौरान जिलाधिकारी डीएम अरशद अजीज ने एनएचएआइ व आरइओ वन व टू के अधिकारियों को निर्देश दिया कि ग्रामीण इलाके से लेकर शहरी इलाके तक की सभी जर्जर सड़क को दुरुस्त किया जाए। साथ ही हाईवे की दशा को सुधारने का कार्य भी किया जाए। बैठक में डीडीओ प्रमोद कुमार, विधान पार्षद आदित्य नारायण पाण्डेय, हथुआ एसडीओ अनिल कुमार रमण, सदर एसडीओ उपेंद्र पाल, नगर परिषद के मुख्य पार्षद हरेंद्र चौधरी सहित तमाम जनप्रतिनिधि व एनएचएआइ व आइओ के अधिकारी मौजूद रहे।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस