गोपालगंज : जिलाधिकारी डॉ. नवल किशोर चौधरी ने गुरुवार को बाढ़ पूर्व तैयारियों की विस्तृत समीक्षा की। समीक्षा के दौरान उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि बाढ़ पूर्व तैयारियों में किसी भी तरह की कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। डीएम ने अधिकारियों से कहा कि वे किसी भी तरह का गलत प्रतिवेदन उपलब्ध नहीं कराएं। जांच में यदि प्रतिवेदन के अनुरूप कार्य नहीं मिला तो संबंधित अधिकारी के विरुद्ध कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

बैठक के दौरान डीएम ने जिले में बारिश प्रारंभ होने को देखते हुए जिला सांख्यिकी पदाधिकारी को प्रत्येक दिन बारिश का आंकड़ा उपलब्ध कराने का निर्देश दिया। मांझा प्रखंड के पुरैना में तटबंध मरम्मत का कार्य अपूर्ण होने को देखते हुए डीएम ने बाढ़ नियंत्रण विभाग के कार्यपालक अभियंता को लंबित कार्य तत्काल पूर्ण कराने को कहा। कुचायकोट अंचल के सीओ ने प्रखंड के काला मटिहनिया वार्ड नंबर तीन में तटबंध कमजोर होने की शिकायत दर्ज कराई। इसपर जिलाधिकारी ने बाढ़ नियंत्रण के कार्यपालक अभियंता को तत्काल स्थल का निरीक्षण कर प्रतिवेदन उपलब्ध कराने को कहा। जिलाधिकारी ने बाढ़ नियंत्रण विभाग को गंडक नदी के जलस्तर में बढ़ोतरी की स्थिति में तटबंध की सुरक्षा के लिए पर्याप्त मात्रा में जिओ बैग बालू भरकर तैयार रखने का निर्देश दिया। उन्होंने जिओ बैग की तैयारी का कार्य तेजी से करने तथा इसके लिए वाहन की उपलब्धता भी समय पर कराने की तैयारी अभी से पूर्ण रखने का निर्देश दिया। जिलाधिकारी ने सभी संबंधित अधिकारियों को बाढ़ पूर्व की तैयारियों को पूरी निष्ठा से करने को कहा। ताकि तटबंध कहीं भी टूटने न पाए। बैठक में अपर समाहर्ता वीरेंद्र प्रसाद तथा एसडीओ सदर उपेंद्र कुमार पाल के अलावा सभी संबंधित विभाग के अधिकारी व अभियंता मौजूद रहे।

Edited By: Jagran