गोपालगंज : बैकुठंपुर थाना क्षेत्र के बनौरा गांव निवासी दिलीप ¨सह के अगवा पुत्र कुणाल कुमार उर्फ भोलू की चार दिन पूर्व दियारा में दावत करने के दौरान ही दोस्तों के साथ विवाद हो गया। इसके बाद दोस्तों ने मिल कर कुणाल कुमार उर्फ भोलू की हत्या कर दिया। भोलू की हत्या करने के बाद आरोपित पुलिस को भटकाने के लिए बाहर के नंबर से छात्र के पिता को फोन कर एक करोड़ की फिरौती मांगने लगे। इस बीच एक स्थानीय नंबर से भी फिरौती के लिए कॉल किया गया। इसी स्थानीय कॉल डिडक्ट से पुलिस आरोपितों तक पहुंच गई तथा अगवा छात्र का शव बरामद करते हुए छात्र के दो दोस्तों को गिरफ्तार कर लिया। एएसपी विनय तिवारी ने बताया कि 27 जनवरी कुणाल को उसका ही एक दोस्त घर से बुलाकर ले गया था। कुणाल तथा उसके दोस्त पार्टी करने के लिए दियारा में चले गए थे। पार्टी के दौरान सोनू यादव तथा वीरेंद्र राय के साथ कुणाल का किसी बात को लेकर विवाद हो गया। जिसके बाद सोनू राय ने उसे मारपीट कर घायल कर दिया। इसी बीच सोनू यादव तथा वीरेंद्र राय ने अपने दो अन्य साथियों के साथ मिलकर उसकी हत्या करने की योजना बना डाली। जिसके बाद कुणाल का गला दबाकर हत्या करने के बाद शव को वहीं छोड़ कर चारो युवक अपने घर लौट आए। उन्होंने बताया कि छात्र की हत्या करने के बाद मामले को फिरौती के लिए अपहरण करने की तरफ डायवर्ट करने की साजिश रची गई थी। इस साजिश के तहत अपराधी छात्र के पिता दिलीप ¨सह के मोबाइल पर केरल व अन्य प्रांतों के मोबाइल नंबर से कॉल कर छात्र के अपहरण करने की बात कहते हुए एक करोड़ की फिरौती मांगी थी। पुलिस ने जिस नंबर से फिरौती मांगी गई थी उसे डिडक्ट कर बैकुठंपुर गांव सोनू यादव तथा नया टोला बनौरा गांव निवासी वीरेंद्र राय को हिरासत में ले लिया। पूछताछ के दौरान उन्होंने छात्र को साथ ले जाने के दिन ही उसकी हत्या कर देने का खुलासा कर दिया। इस खुलासे के बाद दियारा इलाके में सर्च अभियान चलाकर गुरुवार को छात्र का शव बरामद कर लिया गया। अनजान युवक के साथ दियारा में जाते हुए देखा गया था कुणाल

बैकुठंपुर थाना क्षेत्र के बनौरा गांव निवासी कुणाल कुमार उर्फ भोलू को 27 जनवरी की शाम को करीब पांच बजे गांव के कुछ लोगों ने एक अनजान युवक के साथ दियरा की तरफ पैदल जाते हुए देखा था। लेकिन ग्रामीण को इस बात का अंदाजा नहीं था कि दियारा में ले जाकर कुणाल की हत्या कर दिया जाएगा। बनौरा गांव के ग्रामीणों ने बताया कि कुणाल कुमार आरोपित सोनू व अन्य युवकों के साथ काफी घुल मिल कर रहता है। लेकिन उसे क्या पता था कि उसके ही दोस्त उसके लिए काल बन जाएंगे। पुलिस के प्रति ग्रामीणों में दिखा रोष

गोपालगंज : छात्र कुणाल की हत्या के बाद पुलिस के प्रति ग्रामीणों में रोष दिखा। ग्रामीण इस मामले में पुलिस की सक्रियता पर सवाल उठा रहे हैं। ग्रामीणों का कहना था कि तीन दिन से पुलिस अगवा छात्र को बरामद करने के लिए छापेमारी कर रही थी। इस बीच वह कई लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ भी कर रही थी। लेकिन पुलिस को अगवा छात्र के बारे में जानकारी नहीं लग सकी। उनका कहना था कि अगर पुलिस समय से सक्रिय हो जाती तो छात्र सकुशल बरामद कर लिया जाता। पोस्टमार्टम के लिए तीन सदस्यीय टीम गठित

अपने ही दोस्तों का शिकार बने छात्र के शव को पोस्टमार्टम करने के लिए सिविल सर्जन डॉ. एके चौधरी ने तीन सदस्यीय चिकत्सकों की टीम गठित किया है। हालांकि पुलिस छात्र का गला दबाकर हत्या करने की बात कर रही है। लेकिन छात्र की हत्या कैसे की गई यह पोस्टमार्टम रिपोर्ट से ही स्पष्ट हो पाएगा। छात्र का शव मिलने के बाद बनौरा गांव का माहौल हुआ गमगीन

बैकुंठपुर : अगवा छात्र कुणाल कुमार का शव मिलने के बाद बनौरा गांव का माहौल गमगीन हो गया। परिजनों के चित्कार से ग्रामीणों की आंखें भी नम हो गईं हैं। ग्रामीणों ने बताया कि दिलीप ¨सह के तीन पुत्र तथा एक बेटी थी। पुत्री आरती कुमारी सबसे बड़ी है। कुणाल भाइयों में सबसे बड़ा था। इसका छोटा भाई सन्नी मानसिक बीमारी से पीड़ित है। सबसे छोटा भाई सन्नी कुमार है। अपने पुत्र की हत्या होने की जानकारी मिलते ही दिलीप ¨सह तथा उनकी पत्नी पूनम देवी बेसुध हो गए हैं। परिजनों के चित्कार से पूरे गांव का माहौल गमगीन हो गया है। छात्र का शव मिलने की जानकारी होने के बाद दिलीप ¨सह के घर पर ग्रामीणों की भीड़ पड़ी। बताया जाता है कि दिलीप ¨सह तीन भाई है। दिलीप ¨सह तथा इनके भाई हरिकिशोर ¨सह गांव में ही रहते हैं। एक भाई अर¨वद ¨सह छत्तीसगढ़ में ठेकेदारी करते हैं।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस