जागरण संवाददाता, गोपालगंज : सुबह के समय नम पूर्वा हवा का सह पाकर उमस भरी गर्मी चरम पर पहुंच गई है। इस बीच हीट इंडेक्स भी बढ़ा है। जिसके वजह से अधिकतम तापमान 38 डिग्री सेल्सियस रहने के बावजूद जीवन दूभर हो गया है। इस वायुमंडलीय वातावरण की वजह से न्यूनतम तापमान भी बढ़ गया है। नमी की वजह से पड़ रही उमस भरी गर्मी बीमारियों को न्योता दे रही है। ऐसे में चिकित्सक लोगों को गर्मी के इस मौसम में संभलकर रहने की सीख दे रहे हैं।

रविवार को जिले का न्यूनतम तापमान 28 डिग्री रिकार्ड किया गया। यह इस गर्मी का सर्वाधिक तापमान है। मौसम विभाग के विशेषज्ञ बताते हैं यह न्यूनतम तापमान सामान्य से करीब दो डिग्री अधिक है। न्यूनतम तापमान लगातार बढ़ने से रात भी गर्म होती जा रही है। ऐसे में अब लोगों की रातें घरों में करवट बदलकर गुजर रही है। नमी के आंकड़ों पर गौर करें तो रविवार को अधिकतम आ‌र्द्रता 62 तथा न्यूनतम 55 डिसे. रिकार्ड किया गया। मौसम विशेषज्ञ बताते हैं कि बीते कई दिनों से बंगाल की खाड़ी की ओर से चलने वाली पूर्वा हवा ने वातावरण में आद्रता को काफी बढ़ा दिया है। यह आद्रता जब सतह के तापमान से जुड़ती है तो हीट इंडेक्स बढ़ जाता है और कम तापमान पर भी अधिक गर्मी का अहसास होता है। इनसेट

कहते हैं चिकित्सक

गोपालगंज : डॉ. कौशर जावेद कहते हैं कि उमस भरी गर्मी में कमजोरी, चक्कर आना, सांस फुलना, जुकाम होने जैसी बीमारियां इस मौसम में होती है। जो बच्चों व बुजुर्ग के लिए खतरनाक होती है। इस मौसम में नमक व चीनी का घोल, बेल का शर्बत आदि का अधिक इस्तेमाल करना चाहिए। वहीं डॉ. सुनील कुमार रंजन लोगों को इस मौसम में अपना अधिक से अधिक बचाव करने की सलाह देते हैं। उन्होंने बताया कि इस मौसम में पसीना अधिक निकलता है। जिससे शरीर में सोडियम की कमी होती है। जिसके कारण चक्कर आना तथा कमजोरी की शिकायत होती है। इसके लिए बचाव अधिक कारगर उपाय है।

इनसेट

बीमारियों से बचाव को चिकित्सकों की सलाह

- पानी ज्यादा से ज्यादा पीने का प्रयास करें।

- पानी हर हाल में फिल्टर किया हुआ हो।

- ढीले व सूती कपड़ों को ही पहनें।

- घर से बाहर निकलते वक्त सिर को जरूर ढंक लें।

- बाहर निकलने के पहले चश्मा जरूर पहन लें।

- बाहर से आने के बाद सीधे कूलर या एसी के पास न जाएं।

- धूप में देर तक खड़े न रहें, इससे सन स्ट्रोक का खतरा।

- दोपहर समय अनावश्यक बाहर जाने से बचें।

- तरबूज, खरबूज, खीरा जैसे पानी वाले फलों का करें सेवन।

- तली व भूनी चीज खाने से करें परहेज।

- खुले में बिक रहे खाद्य पदार्थ हरगिज न खाएं।

- भोजन में सलाद का सेवन अधिक करें।

- बेल का शर्बत व छाछ का करें अधिक सेवन। ऐसे बढ़ रहा न्यूनतम तापमान

दिनांक न्यूनतम तापमान

31 मई 24.5

01 जून 25.0

02 जून 26.2

03 जून 26.2

04 जून 26.8

05 जून 27.5

06 जून 28.0

Edited By: Jagran