गोपालगंज। बरौली प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में पदस्थापित डॉ. देवकांत से 10 लाख रुपये रंगदारी मांगने के आरोपी प्रभु यादव को सिवान में पकड़ा गया। वह सीवान के लखराव गांव का निवासी है। डॉक्टर के अनुसार, उसने धमकी दी कि मांगी गई रकम नहीं देने पर उनके बच्चे का अपहरण कर लिया जाएगा। दूसरी आेर एसपी नताशा गुडि़या ने कहा है कि डॉक्टर ने गलत आरोप लगा पुलिस को गुमराह किया।

गोपालगंज की एसपी नताशा गुडि़या के अनुसार, गिरफ्तार युवक के पड़ोस में डॉंक्टर के ड्राइवर के बहन की शादी हुई है। इस नाते वह पिछले एक महीने से ड्राईवर के मोबाइल पर कॉल कर गाली-गलौज कर रहा था, लेकिन यह नहीं बताता था कि कहां से बात कर रहा है।

इसी बीच दो दिनों पहले ड्राईवर से गाली-गलौज के दौरान डॉंक्टर ने ड्राईवर की मोबाइल लेकर प्रभु यादव को डांटा। इस दौरान दोनों के बीच तकरार हुई, जिसके बाद डॉक्टर ने रंगदारी की मांग का गलत आरोप मढ़ दिया।

एसपी ने बताया कि डॉक्टर व प्रभु यादव के कॉल डिटेल्स की पड़ताल से पुलिस ने मामला सुलझा लिया है। डॉक्टर ने ही पहले आरोपी को फोन किया था। आरोपी सीवान में ऑटो चलता है। उसे विशेष टीम ने सिवान से पकड़ा।

आइएमए का आरोप, मामले को रफा-दफा कर रही पुलिस

इस मामले को लेकर इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आइएमए) के जिला सचिव डाॅक्टर वैद्यनाथ सिंह ने कहा कि पुलिस मामले केा रफा-दफा करने में जुटी है। पुलिस की कारवाई से डाॅक्टर व्यथित हैं। आइएमएम इस मामले को राज्य स्तर तक ले जाएगी।

Posted By: Amit Alok

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस