मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

गोपालगंज। अब गांवों में पार्क का सपना साकार होने की उम्मीदें बढ़ गई हैं। मनरेगा के तहत प्रत्येक पंचायत में तालाब के साथ ही पार्क बनाए जाने की योजना पर कार्य प्रारंभ हो गया है। इस पार्क व तालाब के सहारे ग्रामीण इलाके को शहरी माहौल देकर व्यवस्था में सुधार लाने का प्रयास किया जाएगा। पार्क में हर जरुरत की सुविधाएं मुहैया कराई जाएगी। प्रथम चरण में पूरे जिले के 234 गांवों में पार्क का निर्माण कार्य कराए जाने की योजना है।

प्रशासनिक स्तर पर मनरेगा के तहत पार्क बनाने की योजना तैयार की गई है। योजना बनाए जाने के साथ पार्क निर्माण के लिए जमीन की आवश्यकता से लेकर इसके निर्माण व अन्य कार्य में आने वाले खर्च तक की रूपरेखा तैयार की गई थी। मनरेगा के सभी पंचायतों में तैनात कार्यक्रम पदाधिकारियों को इसके निर्माण की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। योजना के तहत प्रत्येक पंचायत के चिन्हित एक गांव में पार्क के लिए जमीन उपलब्ध कराए गए। इसके साथ ही तालाब निर्माण का कार्य भी प्रारंभ कर दिया गया। ग्रामीण विकास अभिकरण के सूत्रों की मानें तो पंचायतों में तालाब व पार्क के निर्माण का कार्य कई पंचायतों में प्रारंभ कर दिया गया है। उचकागांव प्रखंड के गुरम्हा में तालाब के साथ ही पार्क निर्माण कार्य आधा से अधिक पूर्ण कर लिया गया है। अलावा इसके अन्य पंचायतों में भी इस कार्य को गति दे दी गई है। इस योजना के तहत प्रत्येक पार्क के बीचोंबीच एक तालाब का निर्माण कराए जाने की योजना है। इस योजना में तालाब के किनारे को पक्का बनाए जाने के साथ ही पार्क स्थल के अन्य भागों को समतल करने के बाद मिट्टी भराई आदि का कार्य किया जा रहा है। पार्क स्थल के अंदर आने-जाने के लिए सोलिग व पीसीसी ढलाई का कार्य किया किया जाना है। अलावा इसके पूरे पार्क एरिया की कटीले तारों से घेराबंदी किए जाने के निर्देश दिए गए हैं। ताकि इसे नुकसान पहुंचाने से रोका जा सके। भव्य दिखेगा तालाब

पार्क के बीचोंबीच बनने वाले तालाब को भव्य बनाने के दिशा में भी कार्य किया जाएगा। पार्क व तालाब वाले इलाके में रोशनी का भी प्रबंध होगा। ताकि पार्क वाला पूरा इलाका सुंदर दिखे। निर्धारित प्राक्कलन के अनुसार प्रत्येक पार्क में सीटिग बेंच लगाने का कार्य किया जा रहा है। ताकि पार्क में आने वाले लोग इस बेंच पर कुछ देर बैठकर आराम भी कर सकें। सीटिग बेंच को स्थाई रूप से लगाने के निर्देश दिए गए हैं। अलावा इसके बच्चों के खेलने के लिए पार्क परिसर में झूला, स्नाइडिग रैम्प तथा एक्सरसाइज पाइप भी लगाए जाएंगे। ताकि यहां आने वाले बड़े बुजुर्ग से लेकर बच्चे तक कुछ देर ठहर सकें। एक पार्क पर खर्च हो रही 21.08 लाख की राशि

एक पार्क के निर्माण पर कुल 21 लाख 08 हजार रुपये खर्च की जा रही है। विभागीय निर्देश के आलोक में ग्रामीण विकास अभिकरण ने प्रत्येक तालाब के निर्माण के लिए आने वाले पूरे खर्च का ब्यौरा तैयार कर लिया है। इसी प्राक्कलन के आधार पर प्रथम चरण में 234 स्थानों पर पार्क का निर्माण कार्य प्रारंभ किया जाना है। जिला प्रशासन ने मनरेगा पार्क बनाए जाने को लेकर दिशानिर्देश जारी किया है। उन्होंने सभी कार्यक्रम पदाधिकारियों को पार्क निर्माण के लिए भूमि चयन का कार्य पूर्ण करने के साथ ही अविलंब निर्माण कार्य कराने का निर्देश जारी किया है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप