गोपालगंज [जेएनएन]। पूर्व उपमुख्यमंत्री एवं भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी ने सोमवार को राजद को सख्त चेतावनी दी है। उन्होंने कहा कि राजद के गुंडे बाज नहीं आए तो राजद के मंत्रियों को प्रदेश में घूमने नहीं दिया जाएगा।

वे संघ प्रमुख मोहन भागवत की देवधर यात्रा के क्रम में पटना प्रवास के दौरान डीएसएस (धर्मनिरपेक्ष स्वयंसेवक संघ) के विरोध प्रदर्शन से खफा थे। उन्होंने राजद कार्यकर्ताओं के विरोध पर कड़ी आपत्ति जताई है। 

मोदी सोमवार को प्रखंड के कोइनी में दीनदयाल उपाध्याय जन्म शताब्दी को लेकर आयोजित समारोह को संबोधित कर रहे थे। कहा, नोटबंदी की सबसे ज्यादा मार लालू प्रसाद तथा बसपा सुप्रीमो मायावती पर पड़ी है।  ये दोनों नेता सबसे अधिक परेशान हैं जबकि जनता ने समर्थन किया है।

विपक्षियों पर निशाना साधने के साथ  उन्होंने केंद्र सरकार की योजनाओं पर भी प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार पांच साल में किसानों की आमदनी दोगुना करने की दिशा में काम कर रही है। सिंचाई व्यवस्था सुधारने के लिए केंद्र ने 600 करोड़ रुपये बिहार सरकार को दिए हैं।

यदि फसल खेत में किसी कारण से नष्ट हो गई तो प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत किसानों को मुआवजा मिलेगा। बिहार सरकार के सात निश्चय पर तंज कसते हुए उन्होंने कहा कि इसमें खेती, शिक्षा, उद्योग, स्वास्थ्य के लिए कोई स्थान नहीं है। ये कैसा निश्चय है? 

यह भी पढ़ें: महिला और दो मासूम बच्चों की हत्या कर शव को जलाया, प्राथमिकी दर्ज

लालू प्रसाद पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि मोदी का रथ रोकना उनके वश की बात नहीं है। 90 लाख का मिट्टी घोटाला 750 करोड़ के मॉल घोटाले में तब्दील हो गया है।

उन्होंने मिट्टी घोटाले में तेजप्रताप यादव तथा तेजस्वी यादव को मंत्री पद से बर्खास्त करने की मांग की। समारोह को पूर्व पर्यटन मंत्री रामप्रवेश राय, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष मंगल पाण्डेय ने भी संबोधित किया।

यह भी पढ़ें: युवती को नहीं पसंद था सांवला दूल्हा, माता-पिता नहीं माने तो दे दी जान

Posted By: Kajal Kumari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस