संवाद सूत्र, उचकागांव (गोपालगंज)। उचकागांव थाना क्षेत्र के दो अलग-अलग गांवों में पुलिस ने रविवार को दूसरे की जमीन को फर्जी तरीके से लिखवाने के मामले में फरार चल रहे तीन आरोपितों के घरों पर जाकर ढोल-नगाड़े के साथ इश्तेहार चिपकाने की कार्रवाई की।

साथ ही 30 दिनों के अंदर सरेंडर नहीं करने पर कुर्की की कार्रवाई करने के बारे में जानकारी भी दी। बताया जाता है कि उचकागांव थाने में तैनात पुलिस पदाधिकारी गजेंद्र कुमार सिंह पुलिस बल के साथ पहुंचे थे।

थाना क्षेत्र के त्रिलोकपुर व जमसडी गांव में जाकर फरार चल रहे तीन आरोपितों के घरों पर फर्जी तरीके से दूसरे की जमीन लिखवाने के मामले में कोर्ट से जारी इश्तेहार को चिपकाया।

पुलिस ने फरार चल रहे आरोपितों को 30 दिन के अंदर पुलिस अथवा कोर्ट के समक्ष आत्मसमर्पण करने का निर्देश दिया।

बताया जा रहा है कि थाना क्षेत्र के त्रिलोकपुर गांव के अच्छेलाल रावत को कोर्ट से बंटवारा के माध्यम से प्राप्त जमीन को उनके पट्टीदार ने फर्जी तरीके से गांव के एक व्यक्ति के नाम लिख दिया था।

इसके बाद मामले को लेकर न्यायालय के आदेश पर थाना क्षेत्र के त्रिलोकपुर गांव निवासी अच्छेलाल रावत के आवेदन पर त्रिलोकपुर गांव के भरत सिंह, इसी गांव के मनोज गदी और जमसडी गांव के जितेंद्र कुमार के विरुद्ध थाने में फर्जीवाड़ा की प्राथमिकी कराई गई थी।

मामले में तभी से सभी आरोपित फरार चल रहे थे। इसके बाद कोर्ट से जारी इश्तेहार को पुलिस ने ढोल-नगाड़े के साथ आरोपितों के घरों पर पहुंचकर चिपकाने की कार्रवाई की।

थानाध्यक्ष सुभाष कुमार सिंह ने बताया कि आरोपितों के 30 दिन के अंदर आत्मसमर्पण नहीं करने पर पुलिस कुर्की जब्ती की कार्रवाई करेगी।

जानलेवा हमले के आरोपित के घर सिवान पुलिस ने चिपकाया इश्तेहार

इधर, सिवान जिले की नवतन थाने की पुलिस ने रविवार को जानलेवा हमले के आरोपित फुलवरिया थाना क्षेत्र के सेलारखुर्द गांव निवासी अभिषेक कुमार के घर पहुंचकर दरवाजे पर इश्तेहार चिपकाया।

नवतन थानाध्यक्ष अरविंद कुमार के नेतृत्व में पुलिस की टीम पहले फुलवरिया थाने पहुंची। फुलवरिया पुलिस के सहयोग से आरोपित के दरवाजे पर इश्तेहार चिपकाया।

नवतन थानाध्यक्ष ने बताया कि 22 जनवरी को नवतन प्रखंड प्रमुख मीरा देवी के पति राजेश कुमार पांडेय पर तीन की संख्या में हथियारबंद अपराधियों ने फायरिंग करते हुए जानलेवा हमला कर दिया था।

प्रमुख पति गोली लगने से गंभीर रूप से घायल हो गए थे। घायलावस्था में उन्हें सदर अस्पताल सिवान में भर्ती कराया गया था।

प्राथमिक उपचार के बाद स्थिति नाजुक देख डाक्टरों ने बेहतर इलाज के लिए पटना रेफर कर दिया था। वहां काफी समय तक इलाज के बाद स्वस्थ हुए।

उक्त घटना की प्राथमिकी उनके छोटे भाई राजीव कुमार पांडेय ने थाने में कराई थी। इसमें सगरा गांव के निवासी कुलदीप सिंह उर्फ गोलू व उसका भाई रंजीत कुमार सिंह को नामजद व एक अज्ञात को आरोपित किया गया था।

इस मामल में फुलवरिया थाना क्षेत्र के सेलार खुर्द गांव निवासी अभिषेक कुमार का नाम सामने आया था। उसके विरुद्ध मीरगंज थाने के अलावे अन्य क्षेत्रों में भी आपराधिक मामले दर्ज हैं। जिसके दरवाजे पर इश्तेहार चिपकाया गया।

Edited By: Yogesh Sahu