संवाद सहयोगी, डेहरी ऑनसाेन (सासाराम)। बिहार पुलिस के कारनामे ने एक बार फिर लोगों को हैरत में डाल दिया है। ताजा कहानी रोहतास की है। रोहतास पुलिस ने पॉलीटेक्निक के छात्र प्रिंस कुमार की हत्‍या में शामिल एक अभियुक्‍त को पकड़ने का दावा किया है। एसपी आशीष भारती ने ये भी कहा है कि गिरफ्तार अभियुक्‍त के सहयोगियों की पहचान भी हो गई है। लेकिन, पुलिस अब तक किशोर की मौत का राजफाश नहीं कर पाई है। यानी, हत्‍या की वजह अब तक पता नहीं चल सकी। गिरफ्तार अभियुक्‍त की पहचान गया जिले के मोहनपुर थाना क्षेत्र के लॉगराखुर्द निवासी विनय प्रसाद उर्फ रामजी प्रसाद के रूप में हुई है।

ऐसा कह रहे हैं एसपी

एसपी आशीष भारती ने बताया कि डेहरी थाना क्षेत्र के न्‍यू डालमियां नगर क्षेत्र में रविवार की रात पॉलीटेक्निक के छात्र प्रिंस कुमार की हत्‍या कर दी गई थी। सोमवार की शाम पुलिस ने गुप्‍त सूचना के आधार पर ईदगाह मोहल्‍ले से विनय प्रसाद उर्फ रामजी प्रसाद को गिरफ्तार किया गया। हत्‍याकांड की गुत्‍थी सुलझाने के लिए डेहरी एसडीपीओ व आइपीएस अधिकारी डॉ. नवजोत सिमी के नेतृत्‍व में टीम गठित की गई थी। टीम हत्‍याकांड में शामिल दूसरे अपराधियों की तलाश कर रही है। मालूम हो कि घटनास्‍थल से कुल्‍हाड़ी और चाकू बरामद किए गए थे। सूत्र बताते हैं कि अब तक एफएसएल ने भी उसपर विनय की अंगुलियों के निशान होने का प्रमाण नहीं दिया है।

पेट और सीने में चाकू गोदने के बाद काट दिया था गला

पुलिस सूत्रों की मानें तो प्रिंस के सीने और पेट पर चाकू गोदने के निशान थे। उसका गला भी काटा गया था। ऐसा लग रहा था मानो कातिल ने अपना पूरा गुस्‍सा प्रिंस पर निकाल दिया हो। प्रिंस पर हत्‍या की नीयत से ही वार किया गया था। घरवालों ने किसी पर शक जाहिर नहीं किया और अज्ञात के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कराई थी।

Edited By: Prashant Kumar